बटन दबाओ, एक मिनट में रोटी पाओ, आटा गूंथने के झंझट से भी मुक्ति पाओ...


सिंगापुर में ईजाद हुई Rotimatic

कंपनी को मिल रहा है अनुदान

आटा-पानी मिलाने का झंझट नहीं

3

रोटी, उत्तर भारत के खाने का एक प्रमुख हिस्सा है। इस रोटी को यहां जितने चाव से खाया जाता है उसे बनाने में उतनी मेहनत भी लगती है। रोटी बनाने में इसी मेहनत को बचाने के लिए Rotimatic मशीन को ईजाद किया गया है जिसकी मदद से कोई भी व्यक्ति सिर्फ एक बटन दबा कर मशीन से गरमा गरम फुलके हासिल कर सकता है। इस मशीन को बनाया है Zimplistic ने। जो सिंगापुर की कंपनी है और इस कंपनी के मालिक हैं प्रनोती नागरकर।

इस मशीन का इस्तेमाल कोई भी आम आदमी कर सकता है भले ही उसे रोटी बनाना आता हो या नहीं। मशीन में आटा और पानी के लिए अलग अलग डिब्बे होते हैं जिनमें सिर्फ रोटी बनाने लायक आटा और पानी डालना होता है। ये मात्रा कितनी हो इसको नापने की कोई जरूरत भी नहीं होती ये खुद आपस में घुल जाते हैं और रोटी एक मिनट के अंदर तैयार होकर मशीन से बाहर आ जाती है।

सिंगापुर में Zimplistic का शुमार उन 15 कंपनियों में होता है जिनको स्प्रिंग सिंगापुर योजना के तहत 6 मिलियन डॉलर का अनुदान मिल रहा है। इसके अलावा कंपनी के सदस्य काफी तजुर्बेकार हैं जो इसको निरंतर नई ऊंचाइयों में ले जा रहे हैं। रोटी बनाने वाली इस मशीन की खासी मांग है। तभी तो ये विदेशों में रहने वाले आप्रवासियों भारतीयों और दक्षिण एशिया में रहने वाले लोग इस मशीन की काफी डिमांड कर रहे हैं।

ऑटोमेटिक तरीके से रोटी बनाने के इस कारोबार में कई और दूसरी कंपनियां भी हैं लेकिन उनका निर्माण और वितरण स्थानीय स्तर पर ही होता है। Rotimatic इस क्षेत्र में ऐसी पहली है जिसने इसका निर्माण ना सिर्फ बड़े पैमाने पर किया बल्कि इस कारोबार को बढ़ाने के लिये इंटनेट को प्राथमिक साधन के तौर पर इस्तेमाल भी किया।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...