देश के सबसे अमीर व्यक्ति की बेटी के कदम फिल्मों की ओर

0

देश के सबसे बड़े अमीर मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी 'बैटल ऑफ सारागढ़ी' से अपने कदम फिल्मों में रखने जा रही हैं। जब से बाजार ने फिल्म-संसार की चकाचौंध का रुख फेरा है, प्रतिस्पर्द्धा में कला दूर कहीं पीछे छूट गई है, आर्ट मूवीज नदारद सी हो चली है, व्यावसायिक फिल्में, यानी पैसा बटोरना मुख्य हो गया है। 

साभार: सोशल मीडिया
साभार: सोशल मीडिया
फिल्म में अक्षय कुमार मुख्य भूमिका में नजर आएंगे। कुछ समय पहले इसी फिल्म को लेकर विगत 29 अगस्त को अक्षय के घर पर रेशमा शेट्टी और करण जौहर के साथ ईशा अंबानी की मीटिंग हुई थी। ईशा को फिल्म का सब्जेक्ट पसंद आ गया और उन्होंने फिल्म को प्रोड्यूस करने के लिए अपनी सहमति दे दी।

 ईशा बिजनेस के साथ सामाजिक कार्यों में भी काफी सक्रिय रहती हैं। रिलांयस जियो की धमाकेदार लॉन्चिंग में उनकी भी अहम किरदारी रही है। वह जियो के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल हैं। वर्ष 2008 में 16 वर्ष की ईशा उस समय सबसे पहले सुर्खियों में आई थीं, जब फोर्ब्स की लिस्ट ने उन्हें रईस वारिसों की सूची में रखा था। 

देश के सबसे बड़े अमीर मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी 'बैटल ऑफ सारागढ़ी' से अपने कदम फिल्मों में रखने जा रही हैं। जब से बाजार ने फिल्म-संसार की चकाचौंध का रुख फेरा है, प्रतिस्पर्द्धा में कला दूर कहीं पीछे छूट गई है, आर्ट मूवीज नदारद सी हो चली है, व्यावसायिक फिल्में, यानी पैसा बटोरना मुख्य हो गया है। इस मिथक को तोड़ती एक सूचना सुर्खियों में है कि देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी जल्द ही बॉलीवुड में अपने कदम रखने जा रही हैं। कहानी में जरा सा ट्विस्ट ये है कि वह फिल्म में एक्टिंग नहीं, बल्कि प्रोड्यूसर की भूमिका में हैं। जिस फिल्म 'बैटल ऑफ सारागढ़ी' को पहले फिल्मकार करण जौहर और सुपरस्टार सलमान खान प्रोड्यूस करने वाले थे, उसे अब ईशा अंबानी प्रोड्यूस करने जा रही हैं। फिल्म में अक्षय कुमार मुख्य भूमिका में नजर आएंगे। कुछ समय पहले इसी फिल्म को लेकर विगत 29 अगस्त को अक्षय के घर पर रेशमा शेट्टी और करण जौहर के साथ ईशा अंबानी की मीटिंग हुई थी। ईशा को फिल्म का सब्जेक्ट पसंद आ गया और उन्होंने फिल्म को प्रोड्यूस करने के लिए अपनी सहमति दे दी।

सारागढ़ी की लड़ाई में शामिल सिख रेजीमेंट, साभार: लिंक्डइन
सारागढ़ी की लड़ाई में शामिल सिख रेजीमेंट, साभार: लिंक्डइन

यह तो आम बात है कि बॉलीवुड हस्तियों की फिल्मों में डेब्यू की खबरें आए दिन मीडिया की सुर्खियां बनती रहती हैं लेकिन जब देश की सबसे अमीर शख्सियत की बिटिया इस दिशा में कदम रख रही हो तो खबर सचमुच खास हो जाती है। ईशा अंबानी के फिल्मी करियर की शुरुआत आज की ऐसी ही सनसनी मानी जा रही है। जिस सब्जेक्ट पर फिल्म 'बैटल ऑफ सारागढ़ी' बन रही है, उसी पर अभिनेता अजय देवगन और निर्माता-निर्देशक राजकुमार संतोषी भी पिक्चर बना रहे हैं। फिल्म जगत में एक शोशा यह भी हवा में है कि अक्षय कुमार की घोषणा के कारण ही अजय देवगन और फिर सलमान खान नाखुश हो गए। अब अजय देवगन ‘सन ऑफ सरदार-बैटल ऑफ सारागढ़ी’ नाम से फिल्मज बना रहे हैं। फिल्म में वह 36 सिख रेजिमेंट के 21 जवानों के दस हजार अफगान सिपाहियों से टक्कर लेकर सारागढ़ी के किले को फतह करेंगे।

अब आइए, जरा ईशा अंबानी के अतीत की कुछ बातों से वाकिफ हो लेते हैं। ईशा बिजनेस के साथ सामाजिक कार्यों में भी काफी सक्रिय रहती हैं। रिलांयस जियो की धमाकेदार लॉन्चिंग में उनकी भी अहम किरदारी रही है। वह जियो के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल हैं। वर्ष 2008 में 16 वर्ष की ईशा उस समय सबसे पहले सुर्खियों में आई थीं, जब फोर्ब्स की लिस्ट ने उन्हें रईस वारिसों की सूची में रखा था। उस वक्त रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी की इकलौती बेटी ईशा अंबानी का नाम फोर्ब्स की 10 शीर्ष अरबपति उत्तराधिकारियों की सूची में शामिल किया गया था। उसी साल ईशा ने फेमिना मैगजीन के लिए फोटोशूट कराया था, जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थीं। बताया गया था कि यह फोटोशूट दुनिया के सबसे महंगे घर 'एंटीलिया' में किया गया था। ईशा ने वर्ष 2013 में येल यूनिवर्सिटी से साइकोलॉजी और साउथ एशियन स्टडीज में ग्रेजुएशन किया था। 

ये भी पढ़ें- इन फिल्मों को देखकर आपके मन में भी जासूस बनने का ख्याल एक बार जरूर आया होगा

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

पत्रकार/ लेखक/ साहित्यकार/ कवि/ विचारक/ स्वतंत्र पत्रकार हैं। हिन्दी पत्रकारिता में 35 सालों से सक्रीय हैं। हिन्दी के लीडिंग न्यूज़ पेपर 'अमर उजाला', 'दैनिक जागरण' और 'आज' में 35 वर्षों तक कार्यरत रहे हैं। अब तक हिन्दी की दस किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें 6 मीडिया पर और 4 कविता संग्रह हैं।

Related Stories