PlayMoolah से खेल-खेल में सीखें पैसे का सही निवेश

सिंगापुर में कंपनी का कारोबारवित्तीय साक्षर बनाता है PlayMoolahPlayMoolah की टीम में 6 सदस्य

0

पैसा, ये वो चीज है जो हर किसी की जिंदगी में बड़ी अहमियत रखता है लेकिन कमाये हुए पैसे को कैसे बढ़ाया जाए ये हर कोई नहीं सोच सकता। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सिंगापुर के दो उद्यमियों ने PlayMoolah ऐप का निर्माण किया। इसका इस्तेमाल इतना आसान है कि इसे कोई 6 साल से लेकर 35 साल का व्यक्ति भी आसानी से समझ कर ना सिर्फ पैसे का सही निवेश कर सकता है बल्कि उसे भरोसा भी होता है कि उसका निवेश सही और सुरक्षित है।

सिंगापुर के मिन जुआन ली और ऑड्रे टैन ने साल 2008 में अमेरिका में आए बड़े आर्थिक संकट के दौरान पहली बार ये समझ में नहीं आया कि वो अपने पैसे को कैसे सही जगह पर लगायें। उस वित्तिय संकट ने उन्हे इस बात को सोचने पर मजबूर किया कि पैसे को कैसे अपनी जीवनशैली में सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए। इन लोगों ने सोचा कि क्या आम लोग और उनके बच्चे आर्थिक रूप से साक्षर हैं? क्या माता-पिता अपने बच्चों से पैसे के बारे में बात भी करते हैं? जब उन्होने इस मामले में खोजबीन की तो पता चला कि 10 परिवारों में से केवल एक परिवार ही अपने बच्चों को पैसे की कीमत और उसकी अहमियत के बारे में जानकारी देता है।

कंपनी के सह-संस्थापक ऑड्रे के मुताबिक जब वो बच्चे थे तो उनको पैसे के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी। उनका ज्ञान सिर्फ स्कूली किताबों तक ही सीमित था। इन लोगों ने पाया कि माता पिता एक बड़ा रोल निभा सकते हैं कि कैसे पैसे को संभाला जाए लेकिन जब वो ही इस मामले में साक्षर नहीं होंगे तो वो अपने बच्चों को कैसे इसकी जानकारी दे सकते हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए इन लोगों ने अपना काम शुरू किया। इन्होने सोचा कि कैसे लोगों को इस योग्य बनाया जाए कि वो अपने बच्चों को पैसे संभालने के बारे में बता सकें। इसी सोच को यर्थाथ में बदलने के लिए PlayMoolah की स्थापना हुई।

PlayMoolah एक तरह का मिशन है जो शहरी वित्तीय निरक्षरता को दूर करने का काम करता है। जो बच्चों से लेकर 35 साल के लोगों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। अपने तीन साल के छोटे से वक्त में PlayMoolah ने मोबाइल और वेब ऐप के जरिये बच्चों के साथ बड़ों को भी पैसे को संभालने और अपनी जिंदगी में बड़े फैसले लेने के बारे में जानकारी देने का काम किया है। ये बच्चों और उनके अभिभावकों को मिलकर पारिवारिक वित्तीय साक्षरता को बढ़ाने का काम करता है।

PlayMoolah ने हाल ही में अपने एक और उत्पाद WhyMoolah की शुरूआत की है। WhyMoolah लाइफ सिम्युलेटर है। जिसकी मदद से कोई भी युवा अपनी 35 साल की उम्र के लिए योजना बना सकता है। इस खेल में उपयोगकर्ता को एक अवतार बना कर उसे जिंदगी के विभिन्न चरणों से गुजरना होता है। इस दौरान उसे शादी और घर खरीदने के अलावा दूसरी चीजों पर भी पैसा लगाना होता है। खेल के दौरान उपयोगकर्ता कई चीजों में छुपी हुई कीमत के बारे में जानता है, वो बजट बनाना सीखता है और वित्तीय उतार-चढ़ाव के बारे में जानकारी लेता है। इस ऐप को खास तौर से युवाओं को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है जिनको अपनी जिंदगी में कई बड़े फैसले लेने होते हैं।

PlayMoolah की टीम बहुत छोटी है और इसके केवल 6 सदस्य हैं। जिनके पास सफलता का अच्छा खासा अनुभव है। इसके दुनिया भर में 10 हजार से ज्यादा उपयोगकर्ता है साथ ही सिंगापुर में डीबीएस और ओसीबीसी के साथ भागीदारी की हुई है। ये विभिन्न वित्तीय संस्थाओं को अपना लाइसेंस भी देता है ताकि वो अपने ग्राहकों को बेहतर तरीके से वित्तीय फैसले लेने के काबिल बना सकें। इसके सह-संस्थापकों को यंग वूमेन इनोवेटर अवार्ड-2013, एशिया पेसेफिक इकनॉमिक्स सहयोग और वूमेन एंड द इकॉनोमी फोरम-2013 में भी सम्मानित किया जा चुका है।

सह-संस्थापकों का मानना है कि उनकी सफलता इस बात पर आधारित है कि उनका ये उत्पाद बेहतर कदम उठाने और पैसे से जुड़े चतुर फैसले लेने में कितना मददगार साबित होता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए इन लोगों की कोशिश होती है कि वो पैसे को लेकर लोगों की सोच में कितना बदलाव ला पाते हैं। यही कारण है कि इनके पास कई ऐसे ग्राहक आते हैं जो इनको कहते हैं कि पैसे के मामले में उनको PlayMoolah से कई तरह की जानकारी मिली और वो अपने दोस्तों को भी कहेंगे की शादी के फैसले से पहले एक बार PlayMoolah जरूर खेलें। यहीं वो बातें हैं जो सह-संस्थापकों की सफलता को जाहिर करती हैं।

PlayMoolah के सह-संस्थापक ऑड्रे के मुताबिक जब शुरूआत में उन्होने अपने इस काम की शुरूआत करने की सोची तो वो इसे अमेरिका में शुरू करना चाहते थे सिंगापुर में नहीं। लेकिन उनको लगा कि एशिया में बच्चों और युवाओं को पैसे की महत्ता के बारे में जानकारी होना जरूरी है। ये लोग शहरी वित्तीय निरक्षरता को दूर करना चाहते हैं खासतौर से सिंगापुर जैसी जगहों में जहां पर लोगों की आमदनी काफी ज्यादा है। इसके बाद इन लोगों की योजना एशिया के दूसरे हिस्सों जैसे इंडोनेशिया और दूसरे देश में इसे ले जाने की है। इंडोनेशिया में PlayMoolah बच्चों के लिए विशेष वर्कशॉप का भी आयोजन करता है खासतौर से उन बच्चों के लिए जो सड़कों में गुजर बसर करते हैं। PlayMoolah हर तबके के लिए फिर चाहे कोई अमीर हो या गरीब सब में वित्तीय साक्षरता को बढ़ाने में मददगार साबित होता है। हालांकि इसके लिए तरीके अलग अलग हो सकते हैं।

निकट भविष्य में WhyMoolah अपना विस्तार करने पर विचार कर रहा है। उसका लक्ष्य युवा वयस्कों की मदद करना है जो सिर्फ आज पर जीते हैं। उनको ये बताना है कि लंबी अवधि का निवेश और उनके बच्चों की पढ़ाई कितनी जरूरी है। एक महिला तकनीक-उद्यमी होने के नाते ऑड्रे का कहना है कि ये एक बहुत ही शानदार काम है। जिसका कोई अंत नहीं है। उनके मुताबिक जब इरादे नेक हों और आप अच्छे मिशन में चल रहे हो तो ये रास्ता बहुत दूर तक ले जाता है और उनको विश्वास है कि जब तक आपके पास एक विशिष्ट इरादा नहीं होता तब तक आप किसी खास मकसद के लिए लोगों को अपनी ओर नहीं खींच सकते। PlayMoolah का एक दुस्साहसिक लक्ष्य है और वो है दुनिया भर के हर बच्चे और अभिभावक तक अपनी पहुंच बनाना। भले ही वो अमीर हो या गरीब। अगर ये लोग अपने लक्ष्य में सफल होते हैं तो ये समाज को अगले बड़े वित्तीय संकट से बचाने में मददगार साबित हो सकते हैं।