वर्किंग प्लेस पर यौन उत्पीड़न का शिकार इंसान जा सकता है घातक अवसाद में

0

डेनमार्क के 1041 संगठनों के 7603 कर्मचारियों से जुड़े एक अध्ययन के अनुसार, अपने सहकर्मियों, अधिकारियों, बॉस द्वारा उत्पीड़न सहने वाले कर्मचारियों में अधिक गंभीर अवसाद के लक्षण देखे गए हैं। ये अनुसंधान जानी-मानी पत्रिका बीएमसी पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित किया गया है।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
राष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र, डेनमार्क की डॉ. इदा एलिजाबेथ हितफेल्डट मैडसेन के अनुसार, हम अन्य कर्मचारियों द्वारा उत्पीड़न की तुलना में क्लाइंट या क्लाइंट द्वारा उत्पीड़न के प्रभावों के बीच के मतभेदों को देखकर आश्चर्यचकित थे।

निष्कर्ष बताते हैं कि से यौन उत्पीड़न के प्रतिकूल परिणाम हैं और ये सामान्यीकृत या अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। इस अध्ययन में हमने पाया कि क्लाइंट से यौन उत्पीड़न, जो अन्य कर्मचारियों से उत्पीड़न की तुलना में अधिक प्रचलित है, अवसादग्रस्त लक्षणों के एक बढ़ते स्तर से जुड़ा है।

डेनमार्क के 1041 संगठनों के 7603 कर्मचारियों से जुड़े एक अध्ययन के अनुसार, अपने सहकर्मियों, अधिकारियों, बॉस द्वारा उत्पीड़न सहने वाले कर्मचारियों में अधिक गंभीर अवसाद के लक्षण देखे गए हैं। ये अनुसंधान जानी-मानी पत्रिका बीएमसी पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित किया गया है। राष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र, डेनमार्क की डॉ. इदा एलिजाबेथ हितफेल्डट मैडसेन के अनुसार, हम अन्य कर्मचारियों द्वारा उत्पीड़न की तुलना में क्लाइंट या क्लाइंट द्वारा उत्पीड़न के प्रभावों के बीच के मतभेदों को देखकर आश्चर्यचकित थे। पिछले शोध में हमने सहयोगी, पर्यवेक्षक या अधीनस्थ द्वारा यौन उत्पीड़न के संपर्क में आने वाले कर्मचारियों के लिए दीर्घावधि बीमारी का एक बढ़ा जोखिम दिखाया गया था। वो कर्मचारी जो कार्यस्थल में पर्यवेक्षकों, सहकर्मियों या अधीनस्थों द्वारा यौन उत्पीड़न का शिकार होते हैं, वो आम लोगों की तुलना में ज्यादा डिप्रेस्ड होते हैं।

डॉ मेडसन आगे कहती हैं, हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि से यौन उत्पीड़न के प्रतिकूल परिणाम हैं और ये सामान्यीकृत या अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। इस अध्ययन में हमने पाया कि क्लाइंट से यौन उत्पीड़न, जो अन्य कर्मचारियों से उत्पीड़न की तुलना में अधिक प्रचलित है, अवसादग्रस्त लक्षणों के एक बढ़ते स्तर से जुड़ा है। कुछ कार्यस्थलों के लिए, उदाहरण के लिए, सामाजिक कार्य जैसे व्यक्ति-संबंधी कार्य में एक ऐसा दृष्टिकोण हो सकता है जिसमें क्लाइंट द्वारा यौन उत्पीड़न से निपटना 'काम का हिस्सा' बन जाता है।

काम करने की जगह का चुनाव करें सोच-समझकर

शोधकर्ताओं ने पाया कि ग्राहकों द्वारा परेशान किए गए कर्मचारियों ने प्रमुख अवसाद सूची (एमडीआई) पर 2.05 अंकों की बढ़ोतरी की। एक रिपोर्ट में मनोदशा से जुड़ी प्रश्नावली दी गई थी जो एक अनुमान के साथ अवसाद का निदान देती है। अवसाद के लिए गंभीर लक्षण एमडीआई रेंज में 20 पहुंच गए हैं। जो कि मामूली अवसाद से 30 अंक ज्यादा गंभीर हैं। केवल नैदानिक अवसाद की जांच करते समय शोधकर्ताओं को क्लाइंट द्वारा उत्पीड़ित लोगों के उत्पीड़न के संबंध में कोई जोखिम नहीं मिला, जबकि सहकर्मियों, पर्यवेक्षक या अधीनस्थों द्वारा उत्पीड़ित लोगों को नैदानिक अवसाद का एक बहुत अधिक जोखिम था।

इस अध्ययन में भाग लेने वाले 7603 कर्मचारियों में से 2.4% (180) क्लाइंट द्वारा यौन उत्पीड़न के संपर्क में थे, जबकि 1.0% (79) सहकर्मियों द्वारा उत्पीड़न के शिकार थे। पुरुषों की तुलना में महिलाओं के अवसाद में आने की अधिक संभावनाएं नजर आईं। जिसमें 4116 महिलाओं में से 16 9 महिलाओं ने 3487 पुरुषों में से 11 लोगों ने यौन उत्पीड़न की बात रिपोर्ट की। 48 महिलाओं की तुलना में 31 पुरुषों ने सहकर्मियों द्वारा यौन उत्पीड़न की रिपोर्टिंग करवाई। केयरटेकर के क्षेत्र में नियोजित प्रतिभागियों को अधिक बार क्लाइंट द्वारा यौन उत्पीड़न का सामना करना पड़ा। 2191 में से 152 (6.9%) अवसाद से ग्रस्त वो लोग थे जो शिक्षा, सेवा या औद्योगिक कार्य जैसे अन्य व्यावसायिक समूहों में नियोजित थे।

क्यों जरूरी है इस दिशा में और रिसर्च-

लेखकों ने ध्यान दिया कि इस अध्ययन में प्रतिभागी व्यक्तियों की संख्या अपेक्षाकृत कम थी। यह रिपोर्ट के अनुमानों की अनिश्चितता को बढ़ाती है, खासकर पुरुषों के लिए। लेकिन इसका संदर्भ देते हुए मोटे तौर पर महिलाओं के अनुभवों को प्रतिबिंबित कर सकते हैं। इस अध्ययन के क्रॉस-आंशिक अवलोकन संबंधी डिजाइन कारण और प्रभाव के बारे में निष्कर्ष की अनुमति नहीं देते हैं। इसके अलावा, स्वयं रिपोर्ट किए गए डेटा का उपयोग जो प्रतिभागी की याद में भरोसा करता था जो कि यौन उत्पीड़न के चलते या कम-से-कम रिपोर्ट की जा सकती है। इन सीमाओं के बावजूद लेखकों का सुझाव है कि यौन उत्पीड़न की जांच क्लाइंट और सहकर्मियों, पर्यवेक्षकों या अधीनस्थों द्वारा उत्पीड़न के विभिन्न प्रकार के रूप में यौन उत्पीड़न की जांच करना और यौन उत्पीड़न और अवसादग्रस्तता के लक्षणों के विकास को रोकने के तरीकों की पहचान करना महत्वपूर्ण है।

ये भी पढ़ें: प्राचीन भारतीयों वैज्ञानिकों का वैश्विक विकास में योगदान

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...