अखाड़े में एक भी बार मात न खाने वाले 'रूस्तम-ए-हिंद' दारा सिंह

0

दोस्तों के लिए वो दिलदार बलशाली थे, सारी दुनिया उन्हें 'असली मर्द' के तौर पर जानती है। कुश्ती के रूस्तम-ए-हिंद, बॉलीवुड के पहले एक्शन हीरो दीदार दारा सिंह अपने आप में एक जीती जागती किंवदन्ती हैं। उनका किरदार लार्जर दैन दिस अर्थ है। टीवी स्क्रीन पर जब वो हनुमान के किरदार में आते थे तो मन आह्लादित हो जाया करता था।

साभार: यूट्यूब 
साभार: यूट्यूब 
वो आज हमारे बीच सशरीर तो नहीं हैं लेकिन उनका रौबीला चेहरा, विनम्र आंखें, उनके कुश्ती दंगलों की रिकॉर्डिंग, उनकी फिल्में, उनका हनुमान वाला रूप हमें एहसास ही नहीं होने देता कि वो चले गए हैं। दारा सिंह तब से सुपरस्टार हैं जब एक्टर लोग ढेर सारा पैसा लगाकर अपनी इमेज ब्रांडिंग नहीं करवाया करते थे। कुश्ती और फिल्मों के दो असंबंधित क्षेत्रों को संतुलित करने की क्षमता उनके पास जबर्दस्त थी।

दारा सिंह की पहली फिल्म ने 1952 में आई दिलीप कुमार-मधुबाला के मुख्य किरदार वाली संगदिल थी। उनकी आखिरी फिल्म थी जब वी मेट। 2007 में आई इस हिट फिल्म में वो करीना कपूर के दादा के रूप में दिखे थे।

दोस्तों के लिए वो दिलदार बलशाली थे, सारी दुनिया उन्हें 'असली मर्द' के तौर पर जानती है। कुश्ती के रूस्तम-ए-हिंद, बॉलीवुड के पहले एक्शन हीरो दीदार दारा सिंह अपने आप में एक जीती जागती किंवदन्ती हैं। उनका किरदार लार्जर दैन दिस अर्थ है। टीवी स्क्रीन पर जब वो हनुमान के किरदार में आते थे तो मन आह्लादित हो जाया करता था। वो आज हमारे बीच सशरीर तो नहीं हैं लेकिन उनका रौबीला चेहरा, विनम्र आंखें, उनके कुश्ती दंगलों की रिकॉर्डिंग, उनकी फिल्में, उनका हनुमान वाला रूप हमें एहसास ही नहीं होने देता कि वो चले गए हैं। दारा सिंह तब से सुपरस्टार हैं जब एक्टर लोग ढेर सारा पैसा लगाकर अपनी इमेज ब्रांडिंग नहीं करवाया करते थे। कुश्ती और फिल्मों के दो असंबंधित क्षेत्रों को संतुलित करने की क्षमता उनके पास जबर्दस्त थी। दारा सिंह की पहली फिल्म ने 1952 में आई दिलीप कुमार-मधुबाला के मुख्य किरदार वाली संगदिल थी। उनकी आखिरी फिल्म थी जब वी मेट। 2007 में आई इस हिट फिल्म में वो करीना कपूर के दादा के रूप में दिखे थे।

कुश्ती के दीवानों के लिए वो पिता तुल्य थे और युवाओं के लिए प्रेरणा थे। 1982 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले सतपाल सिंह याद करते हैं, 1972 के ओलंपिक के बाद मैं उनके साथ अपनी पहली मुलाकात को स्पष्ट रूप से याद कर सकता हूं। मैं बहुत प्रभावित था, जिस तरह से उन्होंने अपना शरीर बनाए रखा था वह हमारे जैसे युवाओं के लिए प्रेरणादायक था। जब सुशील कुमार ने बीजिंग ओलंपिक में कांस्य और विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था तो उन्होंने सुशील को बताया कि उन्हें लंदन में उसी तरह से प्रदर्शन करना चाहिए और एक पदक के साथ वापसी करना चाहिए।

साभार: स्क्रॉल.इन 
साभार: स्क्रॉल.इन 

दारा ने अपने गांव की मिट्टी में इस खेल को सीखा। फिर उन्होंने पेशेवर कुश्ती की ओर खुद को मोड़ दिया। 50 और 60 के दशक में इस खेल को काफी पॉवरपैकर माना जाता था। दारा सिंह की लोकप्रियता बढ़ती गई। उन्होंने 500 पेशेवर मुकाबलों में लड़े और कभी भी पराजित नहीं हुए, और किंग कांग (ऑस्ट्रेलिया) और जॉन डिसिल्वा (न्यूजीलैंड) जैसे स्थापित अंतरराष्ट्रीय पहलवानों के खिलाफ प्रतिस्पर्धा की। 1954 में, उन्होंने रूस्तम-ए-हिंद का खिताब जीता। एक पहलवान के रूप में, उनके जलवे कम नहीं थे। ऑस्ट्रेलियाई चैंपियन किंग कांग और कैनेडियन एसे फ्लैश गॉर्डन के साथ, दारा सिंह ने मनोरंजन के खेल का पहला टेम्प्लेट बनाया जो आज भी अपने विभिन्न अवतारों जैसे कि डब्ल्यूडब्ल्यूएफ, डब्ल्यूडब्ल्यूई और टीएनए कुश्ती में टीआरपी टॉपर बन गया है। एक मशहूर लड़ाई, जहां दारा ने किंग कांग को अपने सिर से ऊपर उठाया और उसे रस्सियों पर फेंक दिया। यह ऐतिहासिक बैटल लोगों के जेहन में आज भी ताजा है।

अपने 6 फुट वाले भीमकाय शरीर के साथ जब दारा ने बॉलीवुड में प्रवेश किया था तो कई अग्रणी फिल्म निर्माताओं ने उन्हें एक नायक के रूप में एक पहलवान संवर्धन करने के लिए तैयार थे, जब गहन नाटक ने शासित किया। दारा ने छोटे-से-बजट हिंदी और पचास और साठ के पंजाबी एक्शन फिल्मों में अपनी जगह बनाना शुरू किया, इस प्रक्रिया में शैली को एक विशिष्ट किट्टी कला के रूप में बदल दिया। मध्यवर्ती वर्षों ने उन्हें लगातार अपने करिश्मा को फिर से परिभाषित किया। उन्होंने दो बार हनुमान के किरदार को जीवित किया, एक बार साठ के दशक की फिल्म रामायण में, और फिर अस्सी के दशक में जब रामानंद सागर ने महाकाव्य पर अपने सुपरहिट धारावाहिक में उन्होंने हनुमान की भूमिका निभाई। उन्होंने 1965 में महाभारत के स्क्रीन अडॉप्शन में भीमसेन भी भूमिका निभाई। उन्होंने कुछ फिल्मों को भी निर्देशित किया, 1982 में उन्होंने रूस्तम बनाई, तनुजा और सोहराब मोदी को लीड रोल में लेकर। 1978 में आई फ़िल्म भक्ति में शक्ति भी उनकी एक चर्चित फिल्म है। जिसमें भारत भूषण को लीड रोल में थे।

साभार: आईडिवा
साभार: आईडिवा

सिंह एक सच्चे स्टार थे। उनके डाई हार्ट प्रशंसकों ने उनको फलक तक पहुंचाया। जब उनकी मौत की खबर आई थी तो अमृतसर के पास उनके पैतृक गांव में कई लोगों ने विश्वास ही नहीं किया कि वे अब और नहीं रहे हैं। इन प्रशंसकों के लिए, उनके हनुमान हमेशा के लिए अमर रहेंगे। उनका जन्म नवंबर 1928 में बलवंत कौर और सूरत सिंह रंधवा के घर हुआ था। दारा को प्यार से बलवानजी (पहलवान) कहा जाता था। कोई आश्चर्य नहीं कि गांव को बलवान दा पिंड (पहलवान के गांव) के रूप में जाना जाने लगा है। 

ये भी पढ़ें: धन्नो कैसे बन गई कथक क्वीन!

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी