ग़ालिब कभी, या फैज़ कभी मैं मीर लिख देता..

"बना के मुल्क को मौज़ू कोई तहरीर लिख देता..

जैसे अभी हालात हैं,अवाम-ए-मुल्क की...

सियासत को अपने लफ्ज़ में शमशीर लिख देता..

एक लफ्ज़ में गर दर्द की करनी हो वज़ाहत..

रंज-ओ-अलम को छोड़ मैं कश्मीर लिख देता।"

(तहरीर- article, शमशीर- sword ,रंज-ओ-अलम - sorrow , वज़ाहत- explain , सियासत-politics)

नई कलम के लिए, बैंगलोर से फैज़ अकरम...

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

इस कॉलम के लिए पाठक अपनी स्वरचित कविता, कहानी, संस्मरण और लेख editor_hindi@yourstory.com पर भेज सकते हैं। आपके लिखे को लाईव करना हमारी जिम्मेदारी।

Related Stories

Stories by नई कलम