‘YourStory', एक नए अध्याय की शुरुआत

(यह लेख मूलत: अंग्रेजी योर स्टोरी की एडिटर इन चीफ और संस्थापक श्रद्धा शर्मा द्वारा लिखा गया है)

0

मुझे अच्छी तरह से याद है, बात अगस्त, 2008 की है। मुंबई में एकत्रित उद्यमियों को मैंने बताया कि मैं उन लोगों की कहानियां कहने जा रही हूं जो सुपरस्टॉर भले ना हों पर उनमें एक चिंगारी है कुछ कर गुज़रने की, उनमें कुछ नया करने का साहस है। ऐसे उद्यमी अपनी कहानियां दूसरों के साथ बांटे। तब मुझे बहुत से ऐसे लोग मिले जिन्होंने कहा---ये चल नहीं पाएगा, हालांकि दूसरी ओर कुछ ऐसे भी थे जिनको उत्साह भी बढ़ाया। लोगों ने मुझसे कहा कि “तुम छह महीने से ज्यादा ये काम नहीं कर पाओगी। ये सिर्फ एक सामाजिक शौक है और उससे ज्यादा कुछ नहीं। कैसे अंजान उद्यमियों की कहानियां व्यावसायिक समझ बनाने में मददगार साबित हो सकती हैं?”

मैंने अपने दिल की सुनी और 16 सितंबर, 2008 को ‘YourStory’ को पूरी दुनिया के सामने रख दिया।

आज ‘YourStory’ को सात साल पूरे हो गए हैं। इन सात सालों के सफर के दौरान हमने मेहनती, जुनूनी और भावुक लोगों की कहानियों को ‘YourStory’ की माला में पिरोने का काम किया है। हमने एक रोमांचक अध्याय की शुरूआत की है, अपने जानने वाले और भागीदारों की मदद से। इन सात सालों के दौरान हमने वो किया जो हम करना चाहते थे, लोगों को कहानियां सुनाईं। हमने जुनून और आत्म विश्वास के साथ काम किया। तभी तो उद्यमियों से ना सिर्फ प्यार मिला बल्कि उनसे गहरा नाता भी जुड़ गया। यही कारण है कि आज लोग हमारे काम से प्यार करते हैं, हमारे काम को समझते हैं और हमारी उर्जा की दाद देते हैं।

आज हर कोई सपने देखता है, संघर्ष करता है, सफल भी होता और कई बार नाकाम भी होता है। ऐसे लोगों के लिए अपने अनुभव के आधार पर मैं उनसे कुछ कहना चाहती हूं। जिसमें हर किसी के लिए अपना मतलब हो सकता है।

आगे आने में काफी समय लगा

मैं आगे बढ़ना चाहती थी और कई बार ये रास्ता लंबा लगा। अकेलापन महसूस हुआ और ऐसे लगा कि ये काम ग्लैमरस भी नहीं है। तब आपको ऐसे लोगों पर विश्वास नहीं करना चाहिए जो आपको अलग तरीके से लें। कई बार मुझे अपने रास्ते में अंधेरा भी दिखाई देता था। तब मैं अपने आप से एक प्रश्न पूछती कि मैं अब तक क्या कर रही थीं? लेकिन मैंने आगे बढ़ने की और अपने अंदर की आग को बुझने नहीं दी। एक बार कदम बढ़ाने के बाद रूकने का तो कोई प्रश्न ही नहीं था।

गिरने के बाद और ताकत के साथ आगे बढ़ी

अच्छा, बुरा और बदसूरत सभी चीजों को मैंने अपने साथ संजोया और आज जो मैं हूं वो सब इन्ही चीजों की बदलौत हैं। जो लोग ऐसा दावा करते हैं कि वो सब जानते हैं, वो फलां काम के विशेषज्ञ हैं उन पर कभी भी विश्वास नहीं करना चाहिए। अगर कोई ऐसे लोगों के चक्कर में फंस जाये तो उसके पास रोने और गिरने के अलावा कोई रास्ता नहीं होता। ये ठीक है कि हर कोई ऐसा करता है। इसलिए जरूरी है कि आप अपने तजुर्बे से सीखें। ऐसे लोग जो मुझे जानते हैं और करीब से देखते हैं वो बताएंगे कि कैसे इन सालों के दौरान मैंने असंख्य उतार चढ़ाव देखे और कई बार दिल भी दुखा। लेकिन अगर सच पूछा जाये तो जो लोग गिरने का अनुभव नहीं कर सकते वो ऊंचाई पर पहुंच कर खुशी का मजा भी नहीं लूट सकते। मैंने अपनी जिंदगी में आए कई उतार चढ़ाव के दौरान जीना सीखा, यही कारण है कि जब जब मैं गिरी, तब तब उतनी ही ताकत और तेजी से उठ आगे बढ़ी।

अच्छे कर्म में अटूट विश्वास

मुझे लोगों से बदले में अच्छी प्रतिक्रियाएं मिली हैं। इस दौरान मैंने कई उद्यमियों को बदलते हुए देखा। बदलाव ही प्रकृति का नियम हैं और चीजें निरंतर बदलती रहती हैं और इन बदलाव के लिए खुद को भी तैयार रखना होता है। मुझे उम्मीद है कि ज्यादा से ज्यादा लोग समर्थन में आएंगे। मैं मानती हैं कि जो सम्मान ‘YourStory’ को मिलना चाहिए था वो अब तक नहीं मिला है। यही वो चीज है जिसने मुझे ना सिर्फ अच्छा इंसान बनाने में मदद की बल्कि आज मैं जो हूं वो इसी की बदौलत हूं। मेरा कहना है कि जब आप ये जान जाते हैं कि कब आपको अपना बचाव करना है तो आपके अपने अंदर अलग तरह का धैर्य और दृढ विश्वास पैदा होता है।

जूझना एक प्रक्रिया है

योर स्टोरी को लोगों तक पहुंचाने और इसके लिए अपेक्षित सहायता के लिए मैं लगातार सात सालों तक जूझती रही। हर कदम पर संघर्ष जारी रहा। लेकिन इसका मतलब ये नहीं था कि मैं टूट रही थी। आज जो भी मैं हूं वो दरअसल उसी जूझ की वजह से हूं। जब आपको पता है कि आपको हर कदम पर गिरकर उठना है तो उससे जो साहस और ताकत मिलती है वो बिलकुल अलग होती है।

बाहरी निवेश का फैसला

हमने YourStory’ के लिए बाहर से निवेश लेने का फैसला लिया क्योंकि हमारा मानना है कि अपने पंखों के लिए मजबूत हवा की सख्त जरूरत है। अगर अपने सपने को साकार करना है तो हर कहानी महत्वपूर्ण है। हम अपने इरादों को लेकर स्पष्ट हैं अगर कोई हमारे मूल्यों और सिद्धांत पर विश्वास करता है तो वो कहानी का हिस्सा हो सकता है।

मैं भाग्यशाली हूं और उन लोगों के प्रति आभारी हूं जिनका साथ हमें मिला। मुझे ये बताते हुए खुशी हो रही है कि रतन टाटा, वाणी कोला (कल्लारी कैपिटल), करती मदसमी (Qualcomm Ventures) और टीवी मोहनदास पाई ने ‘YourStory’ में निवेश किया है।

हमारा सपना है कि हर कहानी ना सिर्फ असाधारण हो बल्कि लोग उन सपनों को पूरा करने के लिए आगे आएं। हालांकि मैं उन लोगों की यहां कोई सूची नहीं देना चाहती, जिन पर ‘YourStory’ का गहरा प्रभाव पड़ा। बावजूद इसके मैं हर किसी का धन्यवाद करना चाहती हूं जिन्होने दिल खोल कर हमारी मदद की, हमारा समर्थन किया और हमारे साथ खड़े रहे खासतौर से हमारी टीम। और हर वो उद्यमी जो इस यात्रा का हिस्सा रहा। आज मैं हर किसी का धन्यवाद करना चाहती हूं और उम्मीद करती हूं कि हमारे अंदर बेहतर और सार्थक काम करने की पहले से भी ज्यादा ताकत आये।

लेकिन अभी एक और रोमांचक घोषणा शेष है और वो है ‘YourStory’ का डीएनए। जहां पर हर कहानी महत्वपूर्ण है। इसलिए जल्द ही एक नया उत्पाद बाजार में आने वाला है जहां पर कोई भी अपनी कहानी लिख सकता है, बता सकता है। खास बात ये है कि अपनी भाषा में मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर कहानी कह सकता है। मैं सभी पाठकों से अनुरोध करती हूं कि वो हमारी इस मुहिम में शामिल हों ताकि लाखों कहानियां हर घर तक पहुंचे। जिनमें अनंत आशा, जुनून और उनके अंदर छिपी आग लोगों के सामने आ सके।

मैं एक बार फिर सबका धन्यवाद करती हैं जिन्होने ‘YourStory’ को मौका दिया अपनी जिंदगी का हिस्सा बनने का। जिसको खिलता हुआ जीवन मिला क्योंकि आप सब लोगों ने बिना किसी शर्त के प्यार जो दिया है।