बजट होटल देख रहे हैं आप, 'ZipRooms' लाया है सौगात

विरासत में मिले हुनर को पहचान, सपनों में लगाये पंखZip Rooms की 11 शहरों में मौजूदगीकड़ी जांच के बाद ही शामिल किया जाता है होटल को शामिल

0

विदेशों के साथ देश में भी घुमने फिरने का चलन खूब बढ़ गया है। खासतौर से युवा जो टेक सेवी भी होते हैं। उनके लिए ये मस्ती का मौका होता है। ऐसे में वो अपने मोबाइल से चुटकियों में जान जाते हैं कि कौन सा होटल उनको बेस्ट डील या ऑफर दे रहा है। रॉयल ऑर्किड होटल समूह के सह-प्रमोटर और स्प्री होटल के सीईओ केशव बालाजी ने युवाओं में बढ़ती हुई घुमने की इस प्रवृति को भांप लिया था और बजट होटल की कमियों को भी देख लिया था जिसके बाद वो जान गये थे कि उनको अगला कदम क्या उठाना है।

केशव बालाजी
केशव बालाजी

एक तकनीकी विशेषज्ञ होने के नाते बालाजी ने हमेशा प्रौद्योगिकी को आतिथ्य समाधान के साथ जोड़ने की कोशिश की। रॉयल ऑर्किड होटल समूह और स्प्री होटल के साथ काम करने दौरान वो उच्च और मध्य श्रेणी के होटल सेगमेंट से अच्छी तरह परिचित थे। लेकिन अब वो अपने आप को बजट होटल के सेगमेंट से भी जोड़ना चाहते थे। ZipRooms बालाजी के दिमाग की उपज है ये बजट होटल का समूहक है जो सह-ब्रांडेड होटल को देश भर में अपना प्लेटफॉर्म मुहैया कराता है। जिसमें सभी बुनियादी सुविधाएं होती हैं। ये छुट्टियां बिताने वाले या कारोबारियों की हर जरूरत को पूरा करता है। ZipRooms ने ऐसे होटलों की पहचान की है जो ब्रांडेड नहीं है लेकिन बजट होटल की श्रेणी में आते हैं। होटल के साथ गठबंधन से पहले उनकी टीम किसी होटल के बुनियादी ढांचे, उसकी योग्यता और मानदंड की गहराई से जांच करती है। इनके मुताबिक होटल मालिक के मूल्यों और रवैये को समझना बहुत जरूरी होता है। क्योंकि ZipRooms को ऐसे सहयोगी की तलाश होती है जो अपने विकास को लेकर उत्साही हो और मिलकर ऐसे रास्ते तलाशें जिसमें दोनों का फायदा हो।

बालाजी का मानना है कि सही कोरोबारी से भागीदारी लंबे वक्त में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उनके कहना है किसी भी होटल को अपने साथ जोड़ने के बाद उसके मानकीकरण को ब्रांड के स्तर तक ले जाने का काम किया जाता है। ज्यादातर इनके ग्राहक युवा होते हैं ऐसे में ये लोग हर जरूरी चीजों का खास ख्याल रखते हैं जैसे साफ कमरा, साफ बिस्तर, वाई-फाई, गर्म पानी की व्यवस्था, वातानुकूलन की व्यवस्था और सुबह का नाश्ता जरूरी होना चाहिए। इसके लिए ये अपने नए सहयोगी होटलों पर काफी वक्त खर्च करते हैं ताकि होटल के कर्मचारियों को बेहतर प्रशिक्षण और उन पर निगरानी रखी जा सके। ये रोजमर्रा के काम में दखल देने की कोशिश नहीं है बल्कि ये कोशिश है कि उनके कारोबार को मुनाफे में बदला जाए। बालाजी का कहना है कि वो सिर्फ ऐसे होटलों को सहयोगी नहीं बनाते जो सिर्फ होटलों के कमरे बेचना जानते हों बल्कि ऐसे सहयोगी चाहते हैं जो होटल की तरक्की के लिए उसका राजस्व और बेहतर लागत प्रबंधन पर भी ध्यान दें।

ZipRooms की टीम
ZipRooms की टीम

बावजूद इसके बालाजी का मानना है कि लगातार किसी होटल की निगरानी करना आसान नहीं है। इसलिए वो इसके लिए दूसरे तरीके तलाश रहे हैं। ZipRooms एक तकनीक का प्लेटफॉर्म भी जो किसी भी होटल में कमरे की बुकिंग को आसान बनाता है, होटल में बढ़िया सेवा देने का भरोसा देता है।

बालाजी ने व्हार्टन स्कूल और आईएसबी हैदराबाद से स्नातक किया। जिसके बाद उन्होने अमेरिका में बैंकिंग सेक्टर में नौकरी की। उनके मुताबिक जब वो कॉलेज में थे तो उन्होने कभी नहीं सोचा था कि वो हास्पिटैलिटी के क्षेत्र में कदम रखेंगे। लेकिन रॉयल ऑर्किड होटल समूह के आईपीओ के दौरान उनका रुझान इस ओर हुआ क्योंकि इनके पिता को दशकों से इस क्षेत्र में महारत हासिल थी। उन्होने होटल के कामकाज के बीच ही अपना बचपन गुजारा क्योंकि सालों से उनके परिवार का यही मुख्य व्यवसाय था। इसलिए बालाजी ने होटल के कारोबार को बहुत ही करीबी से देखा था।

बालाजी अपने दम पर कुछ अलग करना चाहते थे। उनके मुताबिक कोरोबारी घर में पैदा होने के कई फायदे और नुकसान हैं। यहां रहकर आप उद्यमी के अच्छे और बुरे दिन से परिचित हो सकते हैं जबकि दूसरी ओर सामाजिक और परिवारिक उम्मीदों का भार आप पर काफी होता है। आपकी तुलना परिवारिक विरासत के साथ की जाती है।

Zip Rooms का विचार बालाजी को करीब डेढ़ साल पहले आया था लेकिन आज 11 शहरों में इसकी मौजूदगी है और अगले एक साल में उम्मीद है कि ये तीन सौ से चार सौ होटलों के साथ गठजोड़ करेंगे। इन लोगों का दावा है कि देश में करीब 11 लाख ऐसे होटल हैं जिनको वो बजट होटल के रुप में ला सकते हैं इसके लिए इनके पास एक मजबूत टीम है। पिछले कुछ महिनों के दौरान इस क्षेत्र में दूसरों का भी दखल बढ़ा है जैसे OYO, Zostel, Treebo और Zo Rooms। बावजूद इसके बजट होटल के क्षेत्र में भारतीय ग्राहकों की उम्मीदों को पूरा करना हर किसी के लिए बड़ी चुनौती है। ये एक चुनौती की तरह है कि गैर-ब्रांडेड होटल को भी वैसी ही पहचान दिलाना जैसी साफ सफाई और सुरक्षा की दृष्टि में ब्रांडेड होटल की होती है। Zip Rooms तैयार है इस चुनौती का सामना करने के लिए, वो तैयार है इस क्षेत्र में उतरे दूसरों खिलाड़ियों से मुकाबला करने के लिए। जिसके परिणाम आने वाले दिनों में देखे जा सकते हैं।