कैशलेस लेन-देन प्रशिक्षण में छत्तीसगढ़ देश में पहले नंबर पर

छत्तीसगढ़ के बाद उत्तर प्रदेश में एक लाख 72 हजार से अधिक लोगों को और ओडिसा में 1 लाख 55 हजार से अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।

0

नकदी संकट के बीच कैशलेस लेन-देन के प्रशिक्षण में छत्तीसगढ़ देश में पहले स्थान पर रहा है। राज्य में केन्द्र सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य से अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया गया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया है, कि कैशलेस लेन-देन के लिए आयोजित डिजिटल वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम के तहत छत्तीसगढ़ में पिछले 10 दिनों में चार लाख 70 हजार से अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।

छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन ने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ की 9734 ग्राम पंचायतों में तीन लाख 89 हजार 360 लोगों को 31 दिसम्बर तक कैशलेस लेन-देन के लिए प्रशिक्षण देने का लक्ष्य दिया गया था। लेकिन 19 दिसम्बर तक 5 लाख 20 हजार से अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।

मेनन ने बताया कि मुख्यमंत्री रमन सिंह ने विश्वास व्यक्त किया है कि डिजिटल वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम के अंतर्गत प्रशिक्षण प्रदान करने में छत्तीसगढ़ अग्रणी राज्य बनेगा। 

सिंह ने राज्य में 10 लाख से अधिक लोगों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य दिया था। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए चिप्स द्वारा नियुक्त ग्रामीण लोक सेवकों की सहायता से 10 दिनों में चार लाख 70 हजार से अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

केन्द्र सरकार द्वारा देश के सभी राज्यों को दिये गये लक्ष्य की निगरानी के लिए वेबसाईट पोर्टल का निर्माण किया गया है। इस वेबसाईट के अनुसार छत्तीसगढ़ ने देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया है।

छत्तीसगढ़ के बाद उत्तर प्रदेश में एक लाख 72 हजार से अधिक लोगों को और ओडिसा में 1 लाख 55 हजार से अधिक लोगों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।