करियर पावर संवार रहा है छात्रों का करियर, मिल रही है छात्रों के सपनों को नई उड़ान

सन 2010 में अनिल ने नौकरी छोड़ अपने दोस्त सौरभ बंसल के साथ की 'करियर पावरÓ की शुरुआत।- एक लाख रुपए लगाकर शुरु हुआ करियर पावर कोचिंग इंस्टीट्यूट।- करियर पावर छात्रों को प्रवेश परीक्षाओं के लिए तैयारी कराता है। - करियर पावर के हैं देश भर में 70 कोचिंग सेंटर।

0

कुछ लोग अपना भाज्य खुद लिखने में यकीन करते हैं। वे प्रतिकूल परिस्थितियों में भी अपना आपा नहीं खोते और ना ही किस्मत का रोना रोते हैं। उनका फोकस बस अपने लक्ष्य पर होता है और अंत में वे अपने मक्सद में कामयाब भी रहते हैं। कुछ ऐसी ही एक कहानी उत्तर प्रदेश के एक गांव में रहने वाले अनिल नागर की है। अनिल का जन्म एक किसान परिवार में हुआ। बचपन से ही उन्हें खुद पर बहुत भरोसा था और वे तय कर चुके थे कि उनकी किस्मत का फैसला वे खुद करेंगे। उन्होंने आईआईटी जेई की तैयारी शुरु की। बहुत कठोर मेहनत की और 1998 में आईआईटी, बीएचयू में उनका दाखिला हो गया। इंजीनियरिंग के बाद उन्होंने कई बड़ी कंपनियों जैसे जेपी, लिक्विड, आईटीएम यूनिवर्सिटी और कॉगनीजैंट टेक्नोलॉजी सल्युशन जैसी कंपनियों में काम किया। सन 2010 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने मित्र सौरभ बंसल के साथ 'करियर पावर' नाम से एक कोचिंग इंस्टीट्यूट की शुरुआत की। इस कोचिंग इंस्टीट्यूट की शुरुआत उन्होंने एक लाख रुपए लगाकर की। करियर पावर एक ऐसी संस्था है जो छात्रों को सरकारी जॉब और प्रवेश परीक्षाओं के लिए प्रशिक्षण देती है। आज कंपनी के देश भर में 70 कोचिंग सेंटर हैं। छात्रों की सुविधा के लिए इन्होंने ऑनलाइन टेस्ट की तैयारी की सुविधा भी शुरु की है। जहां छात्र परीक्षा की ऑनलाइन तैयारी कर सकते हैं। यह दो साइट्स हैं sscadda.com और Bankersadda.com। अनिल बताते हैं कि Bankersadda.com में प्रतिदिन आने वाले छात्रों की संख्या एक मिलियन से ज्यादा है। वहीं एसएससी अड्डा डॉटकॉम पर पिछले वर्ष दो मिलियन छात्रों ने विजिट किया।

अनिल ने इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट गोवा से एमबीए भी किया है। वहीं सौरभ एक फाइनेंस ग्रेजुएट हैं। जिन्होंने कॉलेज ऑफ बिजनेस स्टडीज़ दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक किया और दिल्ली विश्वविद्यालय से ही मास्टर्स इन फाइनेंस भी किया। सौरभ को दस वर्ष का लंबा अनुभव है। इस दौरान उन्होंने केआईपीसीओ ग्रुप, आईसीआरए और यस बैंक जैसे संस्थानों के साथ भी काम किया है। करियर पावर ने दिल्ली में एक क्लास रूम से अपनी शुरुआत की। अनिल बताते हैं कि उस बैच के 32 में से 26 बच्चे विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षा में सफल रहे। सौरभ बताते हैं कि हमारी छात्रों को पढ़ाने की अप्रोच काफी अच्छी है। हम लोग छात्रों को असाइनमेंट देते हैं समय-समय पर टेस्ट और क्विज़ आयोजित कराते रहते हैं ताकि छात्र हर समय तैयार रहे।

करियर पावर में सात सौ से अधिक कर्मचारी हैं। जिसमें तीन सौ से अधिक टीचर हैं। करियर पावर दो मुख्य परीक्षाओं के लिए बच्चों को तैयारी करता है। पहला बैंक परीक्षा और दूसरा एसएससी परीक्षा। ऑनलाइन टेस्ट सिरीज के माध्यम से छात्र खुद का निरीक्षण कर सकते हैं। अनिल बताते हैं कि हमारा जो कंटेंट होता है वह विशेषज्ञों की टीम तैयार करती है और इसे इस तरह तैयार किया जाता है कि पूरा सिलेबस छात्रों को तैयार कराया जा सके।

बैंकर्स अड्डा डॉटकॉम छात्रों की रीज़निंग, एप्टीट्यूट टेस्ट, अंग्रेजी, कंप्यूटर, मार्केटिंग, बैंकिंग और सामान्य ज्ञान की तैयारी उपलब्ध कराता है। वहीं एसएससी अड्डा अंग्रेजी भाषा, जनरल स्टडीज़, जनरल इंटेलिजेंस और रेलवे नोट्स उपलब्ध कराता है।

जहां बाकी कोचिंग संस्थान काफी मोटी फीस लेकर छात्रों को परीक्षा की तैयारी करा रहे हैं वहीं करियर पावर दस हजार रुपए प्रति कोर्स के हिसाब से फीस लेता है। आने वाले दो से तीन सालों में करियर पावर कई और परीक्षाओं के लिए भी जैसे एनडीए, सीडीएस, रेलवे, सीटीईटी आदि परीक्षाओं के लिए भी छात्रों को तैयार करने की योजना बना रहा है। अनिल बताते हैं कि क्लास रूम कोचिंग से हमारा प्रॉफिट मार्जन 25-26 प्रतिशत होता है। वहीं ऑनलाइन माध्यम से हमारा प्रोफिट 50 प्रतिशत तक हो जाता है। सन 2015 के वित्त वर्ष में करियर पावर ने 28 हजार छात्रों को कोचिंग दी। जहां 16 हजार छात्र क्लासरूम माध्यम से करियर पावर से जुड़े वहीं 12 हजार छात्रों ने करियर पावर के ऑनलाइन प्रोग्राम के माध्यम से कोचिंग ली।

करियर पावर का लक्ष्य 2016 में एक लाख छात्रों को कोचिंग देना है। हाल ही में संपन्न हुई परीक्षाओं में करियर पावर के 12 सौ छात्रों का विभिन्न परीक्षाओं में चयन हुआ। वहीं एक हजार छात्र सन 2015 एसबीआई पीओ प्री परीक्षा में उत्तीर्ण हुए।

करियर पावर का लक्ष्य 30 और ब्रांच खोलने का है। ताकि 60 हजार छात्रों को क्लास रूम में पढ़ाया जा सके। दिल्ली, लखनऊ, कानपुर, पटना, रांची, कोलकाता, भोपाल, अहमदाबाद, हैदराबाद के अलावा कई बड़े शहरों में इनकी ब्रांच फैली हुई हैं। वित्त वर्ष 2014-15 में कॅरियर पावर ने 28 करोड़ रुपए की आय हुई। वहीं सन 2015-16 में यह बढ़कर 30 करोड़ होने की उम्मीद है।

कहानी- अपराजिता चौधरी

अनुवादक- आशुतोष