बच्चों की परवरिश की परवाह है तो ‘बेबीचक्र’ ही 'नैया' पार लगाएगा

बच्चों के लालन-पालन से संबंधित सेवाओं को एक मंच के जरिये अभिभावकों तक पहुंचा रहा है ‘बेबीचक्र’20 बिलियन डाॅलर से भी अधिक का बाजार है मातृत्व और बच्चों से संबंधित सेवाओं और उत्पादों काजून 2014 में मुंबई में सामने आने के बाद से 10 हजार से अधिक माता-पिता की सेवा कर चुकी है वेबसाइटहार्वर्ड से एमबीए नैया सग्गी और उनके एमबीए मित्र मितेश ने 6 लोगों की टीम के साथ शुरू की सेवा

0

नैया सग्गी ‘बेबीचक्र’ की सहसंस्थापक हैं। ‘बेबीचक्र’ एक ऐसा मंच है जो अभिभावकों को ऐसी सेवाओं और उत्पादों से रूबरू करवाता है जो बच्चों की परवरिश के बेहद महत्वपूर्ण लेकिन थकाऊ कामों को बेहद आसान और रोचक बना देते हैं।

जब इनके कई मित्र माता-पिता बने तब उनके दिमाग में इस काम को करने का विचार आया। इसके अलावा उनकी नजर कई ऐसे फेसबुक ग्रुप्स पर भी पड़ी जो बच्चों की चिकित्सा से लेकर उनके लालन-पालन से संबंधित सवालों से भरे हुए थे। विश्वप्रसिद्ध हार्वर्ड बिजनस स्कूल से एमबीए की डिग्री और नेश्नल लाॅ स्कूल से कानून में स्नातक से सुसज्जित 20 बिलियन डाॅलर के इस मातृत्व और बच्चों से संबंधित बाजार में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने की ठान रखी है। याॅरस्टोरी ने ‘बेबीचक्र’ के बारे में विस्तृत जानकारी लेने के लिये नैया के साथ कुछ समय गुजारा।

याॅरस्टोरीः ‘बेबीचक्र’ को शुरू करने के पीछे आपकी क्या मंशा थी?

नैयाः तकनीक ने हमारे भोजन, आवास और परिवहन को खोजने के तरीकों में आमूलचूल परिवर्तन किया है। हमनें महसूस किया कि क्यों न बच्चों के लालन-पालन से संबंधित निर्णयों को आसान बनाने के लिये प्रौद्योगिकी का लाभ उठाया जाए। बस इसी क्रम में ‘बेबीचक्र’ अस्तित्व में आया।

फिलहाल 20 बिलियन डाॅलर के मातृत्व और बच्चों के बाजार पर नजर टिकाये हुए ‘बेबीचक्र’ 30 मिलियन माताओं और पिताओं को बच्चों के लालन-पालन से जुड़े कई निर्णयों को लेने में आॅनलाइन सहायता प्रदान करना है। ये लोग माता-पिता को बच्चों के लिये डाॅक्टरों, अस्पतालों, गर्भनाल और ब्लड बैंकों, प्लेस्कूल, गतिविधियों, घटनाओ, उत्पादों के अलावा अन्य कई सेवाओं से संबंधित सहायताएं आॅनलाइन उपलब्ध करवाते हैं। मजबूत सामाजिक समीकरण, एक उभरता हुआ तकनीकी मंच और समीक्षाओं पर ध्यान देने की प्रवृति माता-पिता के लिये कोई भी फैसला लेना आसान बना देता है।

अपने पास मौजूद दो लाख से भी अधिक सेवाओं के साथ ‘बेबीचक्र’ एक ऐसा अनूठा मंच है जो इन सेवाओं को एक साथ जोड़ते हुए एक विशेष लक्षित वर्ग तक इन्हें पहुंचाता है।

हमने जून 2014 में मुंबई में ‘बेबीचक्र’ बीटा का शुभारंभ किया था। यहां तक कि हमारे आधिकारिक तौर पर बाजार में उतरने से पहले ही कई माता-पिता और स्थानीय सेवा प्रदाता हमारे इस मंच का उपयोग करने लगे थे।

अभी तक हमें 10 हजार आगंतुकों के अलावा 45 हजार से अधिक पेजव्यू मिल चुके हैं। हमार सूची में 800 से अधिक सेवाएं उपलब्ध हैं। इसके अलावा हमारे पास विशेषज्ञों और योगदानकर्ताओं का एक शानदार पैनल मौजूद है जो लगातार ‘बेबीचक्र’ के लिये लेख लिखते रहते हैं और हमारे पास भारतीय अभिभावकों के लिये 250 से अधिक मूल लेख भी उपलब्ध हैं जिनका फायदा उठाकर माता-पिता अपने बच्चों का बेहतर तरीके से लालन-पालन कर सकते हैं।


याॅरस्टोरीः इस कार्य को शुरू करने के पीछे कोई व्यक्तिगत अनुभव तो नही शामिल रहा?

नैयाः हमनें दो प्रवृत्तियों का अवलोकन किया।

हमारे कई सारे साथी और मित्र माता-पिता बनने जा रहे थे और बच्चों की परवरिश करना उनके लिये एक बिल्कुल अनजान दुनिया में जाने जैसा था। एक ऐसी दुनिया जिसके बारे में उन्हें कुछ भी पता नहीं था। वे लोग इस अनुभव के लिये बिल्कुल भी तैयार नहीं थे और ऐसा मुख्यतः इसलिये था क्योंकि अधिकतर युवा जोड़े एकल परिवारों के रूप में रह रहे थे और काम के सिलसिले में एक स्थान पर टिककर नहीं रह सकते थे।

इसके अलावा उनके कई सवाल होते थे और हमारा फेसबुक पेज मुख्यतः परवरिश और लालन-पालन से संबंधित सवालों से भरा रहता है। उदाहरण के लिये माता पिता हमसे अच्छे बाल रोग विशेषज्ञ, प्लेस्कूल, डे केयर, ईवेंट मैनेजर के अलावा स्नतपान सलाहकारोें, विशेष चिकित्सकों इत्यादि के बारे में जानकारी चाहते थे।

और गहराई में जाने पर हमें महसूस हुआ कि फेसबुक पर बच्चों के लालन-पालन से संबंधित सवालों को समर्पित कई ग्रुप बने हुए हैं। मुझे यह देखकर बिल्कुल भी आश्चर्य नहीं हुआ कि बच्चों के लालन-पालन से संबंधित सेवाओं और उत्पादों को खोजना कितना दुष्वार काम है और इसी दुष्वारी ने मुझे ‘बेबीचक्र’ शुरू करने के लिये प्रेरित किया। हम पहले ऐसे बहुमुखी मंच हैं जो आपको मातृत्व और बच्चों की देखभाल से संबंधित सभी सेवाएं और उत्पाद एक ही स्थान पर उपलब्ध करवाते हैं।


याॅरस्टोरीः ‘बेबीचक्र’ के मूल्य प्रस्ताव के बारे में विस्तार से बताएं।

नैयाः मातृत्व और बच्चों से संबंधित बाजार 20 बिलियन अमरीकन डाॅलर से अधिक का है और यह क्षेत्र अप्रत्याशित रूप से बंटा हुआ और अनियमित है। हमारे उच्च स्तर के सामाजिक एकीकरण का उपयोग करते हुए युवा अभिभावक अपनी आवश्यकता की सेवाओं जैसे डाॅक्टरों, प्लेस्कूल, डेकेयर इत्यादि के बारे में जानकारी लेते हैं। इसके अलावा कई बार वे अपने आसपास मौजूद पोषण विशेषज्ञों, फोटोग्राफरों, खिलौने की दुकानों इत्यादि जैसी गैरजरूरी सेवाओं की जानकारी लेते हुए भी इनका उपयोग करते हैं। इसके अलावा माता-पिता समीक्षा पढ़ने के साथ-साथ हमारे मंच पर मौजूद समीक्षकों और विशेषज्ञों के पैनल के साथ जुड़ सकते हैं।

सेवाप्रदाता हमारे मंच के द्वारा माता-पिता की कदलती हुई जरूरतों को पूरा करते हुए उन्हें अपनी सेवाऐं बेचते हैं। माता-पिता की आवश्यकताएं भी बच्चे के विकास के सापेक्ष में बदलती रहती हैं। सेवाप्रदाताओं के लिये निरंतर आगे बढ़ते हुए लोगों को अनवरत सेवा प्रदान करना एक महंगा सौदा है। विश्वास पर आधारित डाॅक्टरों, प्लेस्कूल और डेकेयर जेसी सेवाएं तो जुबानी प्रचार के भरोसे ही चलती हैं।‘बेबीचक्र’ एक ऐसा मंच है जो अभिभावकों को उनके लिये प्रासंगिक स्थानीय सेवाओं से रूबरू करवाता है।


याॅरस्टोरीः आप ‘बेबीचक्र’ जैसे एक समाधान की आवश्यकता को कितनी मान्यता देती हैं? आप अपने द्वारा किये गए अनुसंधान के बारे में भी बताइये?

नैयाः ‘बेबीचक्र’ के विचार को अमली जामा पहनाने से पहले हमारे सहसंस्थापक और मैंने 600 से अधिक माताओं और 200 से अधिक सेवाओं से उनकी आवश्यकताओं के बारे में जानने के लिये व्यक्तिगत रूप से मुलाकात की। वर्तमान में जब हमारा उत्पाद अभी बीटा है और एक एमवीपी है, बाजार में आने के कुछ समय के भीतर ही हमने लोगों में अपने प्रति एक अविश्वसनीय आकर्षण देखा है। इसके अलावा हमनें कुछ बड़े ब्रांडों, सेवाओं और बड़े खुदरा विक्रेताओं के साथ रणनीतिक साझेदारी करने में सफलता पाई है जो हमारे उत्पाद के प्रति बढ़ते हुए विश्वास का द्योतक है।

इसके अलावा मैं आपके सामने दो और उदाहरण रखना चाहूंगी। आधिकारिक तौर पर बाजार में उतरने से तीन दिन पहले जब हम सिर्फ होस्ट सर्वर पर ही आये थे भी हमारी साइट पर 90 लोग हमारे साथ जुड़ चुके थे। यह इस बात का साफ संकेत देता है कि अभिभावक बड़ी बारीकी से हमारे यूआरएल पर नजर रखे हुए थे और हमारे उत्पाद का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे! इसके अलावा एक और गौर करने वाली बात यह है कि चूंकि हम माताओं को बच्चों की पहली पालनहार के रूप में लेते हुए उन्हें लक्षित करते हैं इसके बावजूद हमारी वेबसाइट का इस्तेमाल करने वालों में पुरुषों की संख्या भी उनके बराबर ही है।


याॅरस्टोरीः क्या बाजार में इस काम को करने वाले अन्य प्रतिद्वंदी हैं? क्या आप ऐसे किसी विचार से प्रेरित होते हैं?

नैयाः अमरीका में इस काम को करने वाले प्रतिद्वंदी मौजूद हैं जिनमें से अर्बन सिटर, वीस्प्रिंग और रेड ट्राइसाइकिल प्रमुख हैं। भारत में फिलहाल कुछ वेबसाइट हैं लेकिन वे बड़े बच्चों से संबंधित सेवाओं की आधी-अधूरी जानकारी ही उपलब्ध करवा पाती हैं। इसीलिये ‘बेबीचक्र’ अपने आप में अलग है क्योंकि यह सामाजिक रूप से बेहद एकीकृत है और लालन-पालन से संबंधित जानकारी मुहैया करवाने वाला एक शानदार मंच है। यह सिर्फ एक लिस्टिंग वेबसाइट नहीं है। हम लोग खुद को बिल्कुल अलग तरीके से आगे बढ़ा रहे हैं और इसके परिणाम आपको आने वाले दिनों में देखने को मिलेंगे।


याॅरस्टोरीः विस्तार को लेकर आपकी क्या योजनाएं हैं?

नैयाः हमारा प्रारंभिक लक्ष्य फिलहाल मुंबई ही है। हम बेहद तेजी से अपने पंख फैला रहे हैं और जल्द ही हमें राष्ट्रीय होने की उम्मीद है। हमार योजना अंततः स्वयं को एक वैश्विक उत्पाद के रूप में स्थापित करने की है।

हमें इकनाॅमिक टाइम्स, रेडियो मिर्ची और स्टार्टअप यूके ने अपने यहां स्थान और समय दिया है। वास्तव में इकनाॅमिक टाइम्स तो हमारे ऊपर एक केस स्टडी भी तेयार कर रहा है। इसके अलावा हमनें खिलौनो की दुनिया के एक बड़े नाम हैम्लेज और एनएम मेडिकल के साथ कुछ आॅफलाइन कार्यक्रमों के लिये हाथ मिलाया है।


याॅरस्टोरीः क्या आपने निवेश पाने के कुछ प्रयास किये हैं?

नैयाः फिलहाल हम भारत और अमरीका में कुछ प्रारंभिक निवेशकों से वार्ताओं के अंतिम दौर में हैं। हम ऐसे निवेशकों को अपने साथ जोड़ना चाहते हैं जो इस क्षेत्र और उत्पादों को लेकर हमारे जैसी दृष्टि और सोच रखते हों। हम बहुत भाग्यशाली हैं कि हमें ऐसे निवेशक मिल रहे हैं। इसके अलावा हमें बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज और राॅयरसन यूनिवर्सिटी के संयुक्त प्रायोजन में आयोजित कार्यक्रम डिजिटल मीडिया जोन में भी काम करने का स्थान मिला है।


याॅरस्टोरीः हमें अपने सहसंस्थापक और अपनी टीम के बारे में भी बताएं।

नैयाः मितेश और मेरा परिचय बहुत पुराना है और हम दोनों दसवीं कक्षा से मित्र हैं। मितेश ने एकआरसीसी से स्नातक करने के बाद दिल्ली के फैकल्टी आॅफ मैनेजमेंट स्टडीज से एमबीए किया हुआ है। इसके अलावा उन्हें सिटी बैंक और एचएसबीसी के साथ काम करते हुए 7 वर्षों का वैश्विक काॅर्पोरेट बैंकिग का अनुभव है।

मैं खुद हार्वर्ड बिजनस स्कूल से स्नातक (वर्ष 2012 में एमबीए) हूँ जहां मैं फुलब्राइट होने के अलावा जेएन टाटा स्काॅलर भी रही हूँ। मैं चार से भी अधिक वर्षों तक मैक्किंसे और बाॅस्टन के ब्रिजस्पैन ग्रुप के साथ काम करने का भी अनुभव रखती हूँ। मैं हमेशा से ही स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में काम करना चाहती थी।

अपना पूरा समय इस उपक्रम को देते हुए मेरे सहसंस्थापक मितेश और मैं फिलहाल तो ‘बेबीचक्र’ के साथ ही जी रहे हैं, सांस ले रहे हैं और सोच रहे हैं! हम एक 6 सदस्यों की टीम हैं और अपने इस उत्पाद को अगले स्तर तक लेजाने के लिये तकनीक के जानकारों की तलाश में हैं।

Worked with Media barons like TEHELKA, TIMES NOW & NDTV. Presently working as freelance writer, translator, voice over artist. Writing is my passion.

Stories by Nishant Goel