अब वेस्ट का होगा बेस्ट यूज़ ...... स्वच्छ भारत अभियान


- केंद्र व राज्य स्तर पर जारी है स्वच्छ भारत अभियान की प्लानिंग।

- भारत के कई राज्य दे रहे हैं इस योजना में बढ़ चढ़ कर हिस्सा।

- हाल ही में चंडीगढ़ में चंद्रबाबू नायडू की अध्यक्षता में हुई एक सफल चर्चा।

0

पिछले दिनों चंड़ीगढ़ में आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की अध्यक्षता में कई राज्यों के मुख्य मंत्रियों ने स्वच्छ भारत अभियान को लेकर एक विस्तृत चर्चा की। चर्चा के दौरान इस विषय से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की गई। जिसमें सबसे मुख्य रहा कि कैसे वेस्ट व कूड़े से ऊर्जा का निर्माण हो। चंद्रबाबू के अलावा मिजोरम, हरियाणा के मुख्यमंत्री सहित देश के और सात प्रदेशों के प्रतिनिधियों ने भी इस चर्चा में भाग लिया। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि हम सभी इस दिशा में काम कर रहे हैं और ऊर्जा निर्माण के नए-नए तरीके खोजने का प्रयास कर रहे हैं ताकि वेस्ट का बेस्ट यूज हो सके। और कूड़े से गंदगी नहीं बल्कि ऊर्जा का निर्माण किया जा सके। साथ ही इन्होंने कहा कि इस कार्य के लिए हम नई-नई तकनीकों का सहारा भी ले रहे हैं। इससे न केवल ऊर्जा का निर्माण होगा बल्कि वेस्ट चीज़ों का भी रीयूज होगा। और बहुत जल्द ही इसकी एक विस्तृत रिपोर्ट प्रधानमंत्री को सौंपी जाएगी।

इससे पहले भी दिल्ली में मुख्य मंत्रियों की एक मीटिंग हो चुकी है और आने वाले समय में भी इस विषय पर और मीटिंग रखी जाएंगी। यह मीटिंग काफी सकारात्मक रही। इस मीटिंग में केंद्र सरकार की ओर से तीन प्रेजेंटेशन दिए गए इसके अलावा विशेषज्ञों के एक ग्रुप द्वारा इस विषय के तकनीकी पक्ष पर भी प्रेजेंटेशन दिया गया। विभिन्न प्रतिभागियों ने कई बेहतर सुझाव भी इस मौके पर दिए। जिन पर काम किया जा सकता है।

चंद्रबाबू नाडयू ने दिल्ली के ओखला का उदाहरण देते हुए कहा कि यहां वेस्ट से बीस मेगावॉट ऊर्जा का निर्माण हो रहा है। अगर यह टीक ठंग से काम करता है तो इसी तरह की तकनीक को अपनाया जाए। चीन, जापान और अमेरिका में भी इस प्रकार की योजनाएं सफलता पूर्वक चल रही हैं।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सुझाव दिया कि सैनिटेशन को एक विषय बनाकर छात्रों को पढ़ाया जाए ताकि बचपन से ही उनमें साफ-सफाई की आदत पड़ जाए। वेस्ट मटीरियल रियूज पर उन्होंने कहा कि इस दिशा में हमने काम करना शुरु कर दिया है और जल्द ही इसके बेहतर परिणाम सबके सामने होंगे।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...