यूपी की शुभांगी ने रचा इतिहास, नेवी में होंगी पहली महिला पायलट

उत्तर प्रदेश के बरेली की रहने वाली शुभांगी स्वरूप ने भारतीय नौसेना में पहली महिला पायलट के तौर पर नियुक्त होकर इतिहास रच दिया है।

0

शुभांगी ने नेवी में बतौर प्रथम महिला पायलट परमानेंट कमिशन के साथ तैनाती पाई है। वह टोही विमान पी-8 आई में पायलट होंगी। हिन्द महासागर में चीन की गतिविधियों पर नजर रखने में पहली बार महिला पायलट को तैनात किया जा सकता है।

शुभांगी स्वरूप (एकदम दाहिने)
शुभांगी स्वरूप (एकदम दाहिने)
इन सभी नवनियुक्त अधिकारियों को बुधवार को केरल के एझिमाला नौसेना अकादमी में आयोजित पासिंग आउट परेड में नौसेना में शामिल किया गया। 

शुभांगी को अब एयरफोर्स अकैडमी हैदराबाद में आर्मी के पायलटों के साथ प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाएगी। सफलतापूर्वक ट्रेनिंग करने के बाद उन्हें इंडियन नेवी में बतौर पायलट नियुक्त किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के बरेली की रहने वाली शुभांगी स्वरूप ने भारतीय नौसेना में पहली महिला पायलट के तौर पर नियुक्त होकर इतिहास रच दिया है। शुभांगी ने बुधवार को केरल के एझीमाला नवल अकादमी में 328 मिडशिपमेन कैडेटों के साथ पासिंग आउट परेड में हिस्सा लिया। उनके साथ 3 और महिला नौसेना अधिकारी भी हैं। उनके पिता ज्ञानस्वरूप भी नेवी में कमांडर हैं। शुभांगी ने नेवी में बतौर प्रथम महिला पायलट परमानेंट कमिशन के साथ तैनाती पाई है। वह टोही विमान पी-8 आई में पायलट होंगी। हिन्द महासागर में चीन की गतिविधियों पर नजर रखने में पहली बार महिला पायलट को तैनात किया जा सकता है।

शुभांगी के साथ नई दिल्ली की आस्था सेगल, पुडुचेरी की रूपा ए और केरल की शक्तिमाया एस भी नौसेना के आर्मामेंट इंस्पेक्टोरेट (एनएआई) में अधिकारी बनने वाली पहली महिला बन गई हैं। इन सभी नवनियुक्त अधिकारियों को बुधवार को केरल के एझिमाला नौसेना अकादमी में आयोजित पासिंग आउट परेड में नौसेना में शामिल किया गया। इस परेड में मालदीव और तंजानिया के एक-एक कैडेट्स के साथ नौसेना और इंडियन कोस्ट गार्ड के कुल 328 कैडेट्स शामिल थे। इस समारोह में नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा भी मौजूद थे।

नवल अकैडमी में सम्मानित होतीं शुभांगी
नवल अकैडमी में सम्मानित होतीं शुभांगी

2015 में नेवी में महिलाओं को पायलट के तौर पर शामिल करने की मंजूरी म‍िली थी। नौसेना का NAI ब्रांच नेवी के सभी हथियारों को व्यवस्थित करता है व उनकी जांच भी करता रहता है। शुभांगी को अब एयरफोर्स अकैडमी हैदराबाद में आर्मी के पायलटों के साथ प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाएगी। सफलतापूर्वक ट्रेनिंग करने के बाद उन्हें इंडियन नेवी में बतौर पायलट नियुक्त किया जाएगा। यह अकादमी वायु सेना, नौसेना और सेना के पायलटों के प्रशिक्षण देती है। हालांकि शुभांगी नेवी में पहली महिला पायलट हैं, लेकिन इससे पहले भी महिलाओं को एयरफोर्स ट्रैफिक कंट्रोल और कम्यूनकेशन, हथियार विभाग में जिम्मेदारियां मिलती रही हैं।

शुभांगी ताइक्वॉन्डो में भी नैशनल चैंपियन हैं। उन्होंने बचपन से ही सेना में सर्विस करने का सपना देखा था। नवल अकैडमी में ट्रेनिंग के वक्त उन्हें बैडमिंटन में अच्छे प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत किया जा चुका है। इस मौके पर अपनी उपलब्धि पर खुश शुभांगी स्वरूप ने कहा, 'मुझे पता है कि यह केवल रोमांचक मौका नहीं है, बल्कि एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी भी है।' एनएआई ब्रांच में नौसेना के हथियारों और गोला-बारूद के ऑडिट एवं आकलन की जिम्मेदारी होती है। कमांडर वॉरियर ने कहा कि सभी चारों महिला अधिकारियों को ड्यूटी पर तैनात किए जाने से पहले उनकी चुनिंदा शाखाओं में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: सबसे कम उम्र में सीएम ऑफिस का जिम्मा संभालने वाली IAS अॉफिसर स्मिता सब्बरवाल

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी