मुंबई की कंपनी ने की पीरियड के पहले दिन छुट्टी देने की शुरुआत

मुंबई बेस्ड एक कंपनी ने कामकाजी महिलाओं की समस्या को ध्यान में रखते हुए किया एक बड़ा फैसला...

3

पीरियड्स का पहला दिन महिलाओं को किस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है इसका दर्द तो वही जानती हैं। पहले दिन होने वाली समस्याएं महिलाओं को अंदर से इस कदर तोड़ देती हैं कि कई बार ये महसूस होता है कि काश की उन्हें आज दफ्तर से छुट्टी मिल जाए लेकिन कई बार ऐसा नहीं होता है। कई बार काम के चलते और संकोच में महिलाएं हर महीने बॉस से छुट्टी मांगने में कतराती हैं लेकिन जरा सोचिए कि अगर आपकी कंपनी आपकी मुश्किलों को समझते हुए पीरियड के पहले दिन बिना मांगे छुट्टी दे दे तो कितना अच्छा होगा।

मुंबई बेस्ड एक कंपनी 'कल्चर मशीन फर्म' ने कामकाजी महिलाओं की समस्या को ध्यान में रखते हुए एक बड़ा फैसला लिया है। कंपनी ने महिलाओं के लिए इस मामले में कुछ छूट दी है, जिसे दुनियाभर की महिलाएं अपनी कंपनी में लागू होने की कामना करेंगी।

पीरियड्स की बात आज भी हमारे देश में बहुत खुल के नहीं होती है। लोग अभी भी इन बातों को धीमी आवाज में ही कहते हैं, हालांकि पहले से हालात कुछ बेहतर हुए हैं और लोग अब इस पर बातें भीं कर रहें हैं। पीरियड्स का पहला दिन महिलाओं को किस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है इसका दर्द तो वही जानती हैं। पहले दिन होने वाली समस्याएं महिलाओं को अंदर से इस कदर तोड़ देती हैं कि कई बार ये महसूस होता है कि काश की उन्हें आज दफ्तर से छुट्टी मिल जाए लेकिन कई बार ऐसा नहीं होता है। कई बार काम के चलते और संकोच में महिलाएं हर महीने बॉस से छुट्टी मांगने में कतराती हैं लेकिन जरा सोचिए कि अगर आपकी कंपनी आपकी मुश्किलों को समझते हुए पीरियड के पहले दिन बिना मांगे छुट्टी दे दे तो कितना अच्छा होगा। कामकाजी महिलाओं के लिए इस परेशानी का सामना करना खासा मुश्किल होता है।

इस कंपनी में कुल 75 महिला कर्मचारी हैं, जिनके लिए कंपनी ने फर्स्ट डे ऑफ लीव पॉलिसी निकाली है। कंपनी ने बीते 4 जुलाई को अपनी नई लीव पॉलिसी का वीडियो फेसबुक और यूट्यूब पर जारी किया है, जिसमें कल्चर मशीन के इस फैसले से महिलाएं बहुत खुश नजर आ रही हैं।

आमतौर पर कहा जाता है कि बाजार में उपलब्ध सेनेटरी नैपकिन के इस्तेमाल से महिलाएं काफी हद तक इस समस्या को खुद को बचाने में कामयाब हो जाती हैं। लेकिन एक्सपर्ट के अनुसार ये सच नहीं है। इस दौरान महिलाएं चाहती है कि कुछ पल के लिए वो खुद को इस दुनिया से अलग कर लें और गर्म पानी लेकर चुपचाप बेड पर लेटी रहें। चॉकलेट खाती रहें। लेकिन कामकाजी महिलाओं को ऑफिस से छुट्टी ना मिलने की वजह से पीरियड्स के पहले दिन ऑफिस जाना पड़ता है। क्योंकि कामकाजी लोग महीने में कैजुअल और सिक लीव सहित कुल दो ही छुट्टियां ले सकते हैं। खुद कामकाजी महिलाओं का कहना है कि पीरियड्स के दौरान भी उनपर काम का उतना ही दबाव रहता है जितना दूसरे दिनों में होता है।

पीरियड के पहले दिन ऑफिस की छुट्टी

मुंबई बेस्ड एक कंपनी कल्चर मशीन फर्म ने कामकाजी महिलाओं की समस्या को ध्यान में रखते हुए एक बड़ा फैसला लिया है। कंपनी ने महिलाओं के लिए इस मामले में कुछ छूट दी है, जिसे दुनियाभर की महिलाएं अपनी कंपनी में लागू होने की कामना करेंगी। मुंबई की इस फर्म ने फीमेल कर्मचारियों के लिए पीरियड्स के पहले दिन छुट्टी देने का ऐलान किया है। इस कंपनी में कुल 75 महिला कर्मचारी हैं, जिनके लिए कंपनी ने फर्स्ट डे ऑफ लीव पॉलिसी निकाली है। कंपनी ने बीते 4 जुलाई को अपनी नई लीव पॉलिसी का वीडियो फेसबुक और यूट्यूब पर जारी किया है, जिसमें कल्चर मशीन के इस फैसले से महिलाएं बहुत खुश नजर आ रही हैं। इसमें महिलाएं पीरियड के ऊपर खुलकर बातें कर रही हैं। साथ ही पीरियड के समय में वो किस तरह की परेशानियों और दर्द से गुजरती हैं उसे भी दिखाया गया है। कभी शरीर में दर्द तो कभी पेट और सिर में। यह हर महीने होता है सो बार-बार छुट्टी लेना भी अजीब लगता है। 

महिलाओं को जब बताया कि गया कंपनी की नई पॉलिसी के तहत पीरियड्स के पहले दिन फीमेल कर्मचारी को छुट्टी देने का प्रावधान रखा गया है, तो इसे कैमरे में कैद कर लिया गया। इसमें एक महिला कर्मचारी पीरियड्स के पहले दिन के बारे में कहती है, 'मैं बस घर जाना चाहती हूं।' वहीं, एक और महिला कहती है, 'कभी-कभी आपको अपने पुरुष बॉस के साथ समझदारी से काम लेना होता है। यह बेहद असहज होता है।' वीडियो के अंत में कंपनी ने खुलासा किया है इसने महिला कर्मचारियों को उस वक्त हैरान कर दिया जब इसने पीरियड्स के दिनों में एक दिन की छुट्टी देने की घोषणा की। यानी महिला कर्मचारियों को पीरियड्स के पहले दिन छुट्टी दी जाएगी। कंपनी के इस फैसले पर एक महिला कर्मचारी ने कहा, 'यह बेहद अद्भुत है।' 

भारत के बाहर भी कई कंपनियां ऐसी हैं जो पीरियड लीव पॉलिसी के तहत अपने यहां काम करने वाली महिलाओं को पीरियड पहले दिन ऑफ देती हैं। सबसे पहले ये पॉलिसी जापान में 1920 में बनी थी जब पुरुष कर्मचारियों ने अपने साथ काम करने वाली महिला कर्मचारियों के लिए ये मांग उठाई थी। इसके अलावा नाइक और टोयोटा में भी महिलाओं के लिए भी ये पॉलिसी है।

कल्चर मशीन की एचआर प्रेजिडेंट देवलीना एस.मजूमदार ने बताया, 'यह जिंदगी का हिस्सा है। इसका मकसद हमारे कॉन्टेंट में संस्था के मूल्यों को जोड़ना है। यह शर्म की बात नहीं है, यह जिंदगी का हिस्सा है।' कंपनी के सह-संस्थापक वेंकट प्रसाद ने कहा कि फैसले का मकसद महिला कर्मचारियों को प्रोत्साहित करना है। चीफ टेक्नॉलजी ऑफिसर प्रसाद ने कहा, 'हम चाहते हैं कि हमारे सभी कर्मचारी खुद को प्रोत्साहित महसूस करें, भारत जैसे समाज में महिला सशक्तिकरण महज चर्चा तक सीमित है, हम इस विमर्श को आगे बढ़ाना चाहते हैं।' वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि इस दौरान महिला कर्मचारी कंपनी के फैसले से काफी खुश नजर आ रही हैं।

वीडियो देखें,

मुहिम को आगे भी ले जा रही है कंपनी

कंपनी ने इसके साथ ही महिला एवं बाल विकास मंत्रालय में एक याचिका दाखिल की है जिसमें सरकार से इस पॉलिसी को देशभर में लागू करने का आग्राह किया गया है। इस पहल को और भी कंपनियां अपनाए इसलिए इस कंपनी ने एक ऑनलाइन कैंपेन भी चलाया है, जिसके जरिए महिला एवमं बाल कल्याण मंत्री मेनका गांधी और मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से अपील की जा रही है कि इसी तरह की छुट्टी की पॉलिसी पूरे देश में लागू की जाए। 

इसके लिये कल्चर मशीन www.change.org पर एक पेटिशन भी साइन करवा रही है। भारत के बाहर भी कई कंपनियां ऐसी हैं जो पीरियड लीव पॉलिसी के तहत अपने यहां काम करने वाली महिलाओं को पीरियड पहले दिन ऑफ देती हैं। सबसे पहले ये पॉलिसी जापान में 1920 में बनी थी जब पुरुष कर्मचारियों ने अपने साथ काम करने वाली महिला कर्मचारियों के लिए ये मांग उठाई थी। इसके अलावा नाइक और टोयोटा में भी महिलाओं के लिए भी ये पॉलिसी है।

ये भी पढ़ें,
IIM ग्रैजुएट ने डेयरी उद्योग शुरू करने के लिए छोड़ दी कारपोरेट कंपनी की नौकरी

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी