मकानों की छतों पर सौर इकाइयां लगाने की शुरूआत कर रही है गुजरात सरकार

0


गुजरात में सौर बिजली उत्पादन के मौजूदा स्तर को बढ़ाने के लक्ष्य के साथ राज्य सरकार उस बहुप्रतीक्षित परियोजना को शुरू करने के लिए तैयार है, जिसके तहत छतों पर ग्रिड से जुड़ी सौर बिजली इकाइयां लगाई जाएंगी। इसके लिए आवासीय संपत्ति के मालिकों को यह नई प्रणाली लगवाने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

‘सोलर रूफटॉप’ परियोजना की शुरूआत गुजरात उर्जा विकास एजेंसी :जीईडीए: ने की थी। यह नवीकरणीय उर्जा को बढ़ावा देने वाली राज्य की नोडल एजेंसी है।


मौजूदा वित्त वर्ष 2016-17 में, जीईडीए ने गुजरात भर में छतों पर सोलर फोटोवोल्टिक :एसपीवी: इकाइयां लगाकर 50 मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया है।

जीईडीए के निदेशक जे टी अखानी के अनुसार, ‘रूफटॉप सोलर’ परियोजना सिर्फ आवासीय उपभोक्ताओं के लिए ही है।

अखानी ने कहा, ‘‘कई निवासी ऐसे हैं, जिन्होंने पहले से ही अपनी छतों पर सौर बिजली उत्पादन इकाइयां लगवाई हुई हैं। हालांकि वे ग्रिड से जुड़ी नहीं हैं क्योंकि वे बिजली के मीटर से नहीं जुड़ी हैं। यह परियोजना आवासीय संपत्ति के उन मालिकों के लिए है, जो अपनी बिजली इकाइयों को बिजली ग्रिड से जोड़ना चाहते हैं।’’

अखानी ने कहा, ‘‘ग्रिड से जुड़ी इन इकाइयों की परियोजना का प्रस्ताव गुजरात सौर बिजली नीति में रखा गया था। इसकी घोषणा राज्य सरकार ने अगस्त 2015 में की थी। इस साल हम 50 मेगावाट क्षमता की इकाइयां लगाने की योजना बना रहे हैं। इन इकाइयों को लगाने का काम हमारे चैनल के सहयोगी करेंगे। इससे सही ठेकेदार ढूंढने में लगने वाले उपभोक्ताओं के समय और उर्जा को बचाया जा सकेगा।’’ उनके अनुसार, एक बार आवासीय उपभोक्ताओं और चैनल सहयोगियों की पहचान का काम कुछ माह में पूरा हो जाए, उसके बाद छतों पर सौर इकाइयां लगाने का काम शुरू हो जाएगा।

अब तक 150 से ज्यादा संपत्ति मालिक जीईडीए को अपनी छतों पर सौर इकाइयां लगाने के लिए आवेदन दे चुके हैं।


पीटीआई