16 जनवरी को सरकार बताएगी स्टार्टअप्स को प्रोत्साहित करने के लिए क्या है योजनाएं

0

16 जनवरी को केंद्र सरकार बताएगी स्टार्टअप कार्य योजना...

स्टार्ट-अप कार्य योजना: इनक्यूबेटर, उद्यम पूंजी कोषों के साथ होगा सलाह मशविरा...

16 जनवरी को दिल्ली के विज्ञान भवन में स्टार्टअप्स के लिए पेश की जाएगी विस्तृत योजना....

कार्य योजना में स्टार्ट अप की परिभाषा तथा उन्हें प्रोत्साहन देने के उपाय शामिल होंगे...

एक अनुमान के अनुसार देश में करीब 3,200 स्टार्ट अप हैं...

हर साल 800 नए स्टार्टअप जुड़ रहे हैं...


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में नये विचारों पर आधारित कंपनियों :स्टार्ट अप: को प्रोत्साहित करने के लिये विस्तृत कार्य योजना 16 जनवरी को पेश करेंगे जिसमें इस प्रकार के उद्यम के लिये चीजों को सरल बनाने के लिये कई कदम और छूट की बातें शामिल होगी।

सरकार के शीर्ष अधिकारी, उद्यम पूंजी कोष, वित्तपोषक तथा इनक्यूबेटर 16 जनवरी को विज्ञान भवन में स्टार्ट-अप के लिये विस्तृत कार्य योजना पर विचार करने के लिये बैठक करेंगे। उसी दिन प्रधानमंत्री के समक्ष प्रस्तावित कार्य योजना पेश की जाएगी।

एक अधिकारी ने कहा, ‘‘कार्य योजना में स्टार्ट अप की परिभाषा तथा उन्हें प्रोत्साहन देने के उपाय शामिल होंगे। किसी भी स्टार्ट-अप इकाई के लिये नवप्रवर्तन मूल कुंजी होगी। वे प्रौद्योगिकी चालित होने चाहिये।’’ उसने कहा कि कार्य योजना में स्टार्ट-अप के लिये सभी चीजें शामिल होंगी और इसमें छूट तथा चीजों को सरल बनाने के उपाय होंगे।

औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग :डीआईपीपी: उनके लिये एक ‘पोर्टल’ और ‘एप्प’ भी विकसित कर रहा है। मोदी ने अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में कहा कि स्टार्ट-अप इंडिया, स्टैंड-अप इंडिया के लिये कार्य योजना 16 जनवरी को पेश की जाएगी। मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने संबोधन में उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिये स्टार्ट-अप इंडिया, स्टैंड-अप इंडिया की घोषणा की थी।

कार्य योजना तैयार करने को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय, डीआईपीपी, दूरसंचार विभाग, मंत्रिमंडल सचिवालय तथा इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के बीच गहन बातचीत जारी है।

वित्त पोषण, शुरूआती पूंजी, कंपनियों को विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों से जोड़ने, विपणन समर्थन तथा उनके लिये आसान नियामकीय व्यवस्था जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिये 16 जनवरी को 10 से 11 सत्र होंगे। एक अनुमान के अनुसार देश में करीब 3,200 स्टार्ट अप हैं। इसमें हर साल 800 जुड़ रहे हैं।


पीटीआई