एक कॉल कीजिए, आपके घर, ऑफिस की सफाई का जिम्मा लेगा 'बरूमबर्ग'

त्योहार हों या नही हों बरूमबर्ग देता है आप को सफाई सेवा हर समय

0

पिछले हफ़्ते मेरा एक दोस्त जो शादी कर के नये शहर में गया तो वह हम सभी से अपनी बीमार माँ की मदद के लिए घर पर को सहायक के लिए पूछता था| इसके लिए काफी समय लगा| व्हाट्सअप समूह से द्वारा के नौकरानी का पता चला| यह काम और भी आसन हो जाता अगर इसके लिए कोई प्रोफेशनल सेवा प्रदाता होता| जिसमे वे काल करते और सहायक आ जाता|

ऐसे ही एक घर में आपात स्थिति से बरूमबर्ग(Broomberg) की स्थापना हुए| बरूमबर्ग(Broomberg) एक सफाई सेवा कंपनी है| जो आपको आपके घरों और कार्यालयों को साफ़ रखने में मदद करता है| HerStory ने बरूमबर्ग(Broomberg) के संस्थापक से उनके स्टार्टअप के बारे में बात की|

यह कैसे शुरू हुआ?

सम्राट गोयल और इशान बैसोया ने 2013 में बरूमबर्ग शुरू किया| वे व्यावसायिक रूप से प्रशिक्षित और सत्यापित टीम घरों और कार्यालयों में सफाई के लिए है| यह सेवा हेल्पलाइन नंबर डायल करके या ऑनलाइन बुकिंग से की जा सकती है|

यह विचार मुंबई में सम्राट के भाई के घर पर आग लगने के बाद आया| उन्होंने फायर ब्रिगेड को कॉल किया और जब वे गये पूरा घर बिखरा हुआ और फर्श पर पानी-पानी बिखरा हुआ था| यह रहने लायक नही था और इसे तुरंत साफ करने की जरूरत थी| लेकिन यह आसन काम नही था| उन्होंने बहुत सी सफाई कंपनियों को फोन करने की कोशिश की और उनमें से ज्यादातर ने इनकार कर दिया और कहा कि हम दीपावली या अन्य त्योहारों के दौरान ही सफाई करते हैं| अंत में, उन्हें एक कंपनी मिली| जिसने अगले दिन दो मजदूरों को सफाई के लिए भेजा| वे प्रशिक्षित नहीं थे और उनके पास कोई उपकरण भी नहीं था|

इस घटना से सम्राट को प्रोफेशन और कुशल कर्मचारियों के द्वारा सफाई का विचार आया| उनके लंदन स्कूल ऑफ इकॉनॉमिक्स के साथी ने अमेरिका में ऑन-कॉल हैंडीमैन सर्विसेज का उद्यम शुरू किया था| यह उनके लिए एक प्रेरणा थी और काफी शोध, लोजिस्टिक्स को समझने के बाद सम्राट और इशान ने शुरू करने का फैसला किया|

बरूमबर्ग सितंबर 2013 में शुरू हुआ और दिसम्बर 2013 में अभियान शुरू किया| उन्होंने परिवार से लेकर और अपने निजी बचत से 10 लाख रुपए की पूंजी के साथ शुरुआत की|

अवसर

बरूमबर्ग एक सही मार्केट अवसर नही है जिसकी वे पूर्ति कर रहे हैं| इशान कहतें हैं कि वे घर और कार्यस्थल पर सफाई बनाए रखने में भारतीय माइंड-सेट पर दांव लगा रहे हैं| वह कहते हैं, “समय के साथ-साथ प्रोफेशन सेवा की आवश्यकता बढ़ रही है| हमारा अधिकतर मार्केट मध्यम वर्ग से उच्च वर्ग आय वाले परिवारों, रेस्तरां और महानगरों में मध्यम से लेकर छोटे कार्यालयों में है|”

दिसंबर 2013 में शुरू करने के बाद से, उन्होंने 300 से अधिक घरों, कार्यालयों, रेस्तरां और शोरूम की सफाई की है और सम्राट कहते हैं कि प्रतिक्रिया बहुत उत्साहजनक है| बहुत से संतुष्ट ग्राहकों ने कंपनी के साथ एएमसी(AMCs) भी साइन किया है और इशान कहते हैं उनकी 20 प्रतिशत की दर से महीने दर महीने वृद्धि हो रही है|

बरूमबर्ग बहुत तरह के सेवाएँ देता है| उनकी सेवा 4500 रुपये एक बेडरूम फ्लैट की पूरी सफाई से शुरू है| बरूमबर्ग की सेवा वर्तमान में दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में है और वे इसे दूसरे शहरों में भी फ़ैलाने की सोच रहे हैं| इशान कहते हैं कि उनके ग्राहक कॉलेज स्टूडेंट से लेकर हाउसवाइफ से लेकर काम करने वाले प्रोफेशन हैं| सामान्य रूप से उच्च मध्यम वर्ग जिनकी हर महीने आय एक लाख से अधिक है वे लोग हैं| कुछ लोग आवश्यकता अनुसार उन्हें बुलाते हैं|

भविष्य की योजनायें

वे इस क्षेत्र में नये और पुराने लोगों से बेहतर सेवा देने के लिए बरूमबर्ग उच्च गुणवत्ता की सेवा, व्यावसायिकता, प्रशिक्षण और ब्रांड निर्माण की योजना बना रहे हैं| बरूमबर्ग इस समय गूगल और सोशल मिडिया के द्वारा ऑनलाइन विज्ञापन कर रहा है| वे ऑफ़लाइन विज्ञापन के साथ भी प्रयोग कर रहे हैं|

चुनौतियों के बारे में बात करते हुए इशान कहते हैं, “सफाई कर्मचारियों का प्रबंध करना एक चुनौती है| हम इस मुश्किल रास्तें का हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं| हमने कर्मचारियों का बीच में छोड़ने और अनुपस्थिति की समस्या का सामना किया है|” दूसरी चुनौती गुणवत्ता को बनाये रखने की है| उन्होंने इसके लिए कई प्रबंधकों और संरक्षक की मदद ली है जो उनका इस प्रक्रिया के माध्यम से मार्गदर्शन कर रहे हैं|

लोगों का कारोबार होने के नाते, बरूमबर्ग सफाई टीम में नए लोगों कों लाने के लिए कर्मचारी रेफरल पर निर्भर करता है| मौजूदा समय में दोस्तों, परिवार या परिचितों को लाने के लिए कर्मचारीयों प्रोत्साहन दिया जाता हैं| बरूमबर्ग में कर्मचारियों की औसत उम्र 23 साल है और उनमें से 80 प्रतिशत को सुविधा प्रबंधन कंपनियों के साथ सफाई का अनुभव है, सम्राट कहते हैं|

संस्थापकों की खुद एक प्रभावशाली पृष्ठभूमि हैं| सम्राट ने पहले केपीएमजी और बीसीजी के साथ काम किया है और फाइनेंस में एलएसई का मास्टर हैं| उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से गणित में स्नातक की डिग्री भी हासिल की हैं| इशान रियल स्टेट के पृष्ठभूमि से आते हैं और बीबीए, एमबीए, बी.कॉम किया है और वर्तमान में एलएलबी कर रहे हैं| बरूमबर्ग की मैनेजमेंट टीम में दोस्तों के दोस्त के शामिल हैं और अलग-अलग पृष्ठभूमि से आते हैं|

बरूमबर्ग दिल्ली में दो और ऑफिस खोलने का प्लान कर रहा है और 2017 तक देश के पांचों महानगरों में खोलने की योजना है| फ्रॉस्ट एंड सुलिवन के अनुसार, भारत में सुविधा प्रबंधन क्षेत्र 2011 में 3,795 करोड़ रुपये आंकी गई थी जो की विकसित देशों की तुलना में अभी भी बहुत कम है| रिपोर्ट के अनुसार यह 11.6% की सीएजीआर से बढ़ रही है और बरूमबर्ग अपनी योजना को सही से लागू करने में कामयाब हुए तो उनके हिस्से में विकास का अच्छा हिस्सा आ सकता है| इसके लिए हम उन्हें अपनी शुभकामनाएं देते हैं|