कंप्यूटर से ग्रामीण लोगों के जीवन में सुधार की कोशिश का नाम है 'क्लाउडफैक्ट्री'

नेपाल के लोगों का कंप्यूटर पर कार्य करना सिखाकर उन्हें रोजगार के अवसर प्रदान करवा रहे हैं किसी भी कार्य को कंप्यूटर आधारित सरल कार्यों में कर देते है विभाजित जिससे उन्हें करना हो जाता है आसान व्यक्तिगत और एक समूह के रूप में दोनों प्रकार से किया जाता है कर्मचारियों का मूल्यांकनमात्र एक सप्ताह में 118,000 विभिन्न कार्यों को सफलतापूर्वक दे चुके हैं अंजाम

0

बांग्लादेश के मोहम्मद यूनुस के ग्रामीण बैंक की कहानी और माइक्रोफाईनेस के क्षेत्र में इसके द्वारा लाया गया उछाल कई लोगों के लिये एक सीख लेकर आया और उसने लोगो को प्रेरित करने में साथियों के दबाव की महत्ता के बारे में सिखाया। जिन लोगों के पास ऋण के बदले देने के लिये आवश्यक सहयोग का कोई इंतजाम नहीं है उन्हें ऋण उपलब्ध करवाकर उनकी सफल अदायगी के लिये ‘समर्थक प्रतिभूति’ की इनकी ईजाद की गई पद्धती के सहारे ग्रामीण बैंक ने उन लोगों से भी एक प्रभावशाली पुर्नभुगतान संभव करके दिखाया जिन्हें डूबा हुआ मान लिया गया था। समर्थक प्रतिभूति के मूल्य को बेहतरीन तरीके से समझते और अपनाते हुए ‘क्लाउडफैक्ट्री’ की टीम ने उनके इस माॅडल को अपने व्यापार में आउटसोर्सिंग के अभिनव रूप में अपनाया।

नेपाल के बाहर से संचालित होने वाली क्लाउडफैक्ट्री एक ऐसी आउटसोर्सिंग कंपनी है जो डाटा प्रविष्टि, प्रसंस्करण, संग्रहण और वर्गीकरण इत्यादि जैसे सभी अत्यधिक थकाऊ और उबाऊ कंप्यूटर द्वारा किये जाने वाले कामों को अंजाम देती है। इसकी स्थापना कंप्यूटर पर काम करने के कुछ ऐसे जुनूनी व्यक्तियों द्वारा की गई थी जो नेपाल आए और इस विकासशील देश के बहुत हद तक प्रयोग न हो सकी मानव पूंजी की क्षमता को एक पहचान दी। उन्होंने क्लाउडफैक्ट्री के माध्यम से उस क्षेत्र के कामगारों को कंप्यूटर की बुनियादी जानकारी देने के अलावा उन्हें उनके रोजगार के बदले उचित मजदूरी दिलवाते हुए विकास के दरवाजे खोलने के प्रयास किये।

क्लाउडफैक्ट्री लागत को काबू में करते हुए दक्षता में सुधार करने और सामाजिक प्रभाव को बढ़ाने वाले विभिन्न प्रभावशाली व्यापार माॅडलों का एक मिला-जुला स्वरूप है। चूंकि इनकी आउटसोर्सिंग पूरी तरह से क्लाउड पर निर्भर है इसलिये इसमें मालभाड़े या समयसीमा का कोई बंधन नहीं है। मुख्यतः विनिर्माण के क्षेत्र में प्रयोग होने वाले कार्यप्रणाली के आधार पर संचालित होने वाला क्लाउडफैक्ट्री किसी भी कार्य को ऐसे सरल कप्यूटर आधारित कार्यों में विभाजित कर देता है जिन्हें आसानी से कर्मचारियों को सिखाया जा सकता है जिसके फलस्वरूप उनकी बेहद नाटकीय रूप से उनकी कार्य को करने की दक्षता के अलावा डाटा सुरक्षा में बहुत सुधार होता है।

इसके अलावा क्लाउडफैक्ट्री सामाजिक सहायता के विचार का उपयोग कर्मचारियों को उनके इलाके के आधार पर समूह के रूप में जोड़ने में भी करता है और उन्हें प्रत्येक सप्ताह कार्य के प्रदर्शन की समीक्षा के लिये एक साथ लाता है। कर्मचारियों का मूल्यांकन व्यक्तिगत और एक समूह के रूप में दोनों प्रकार से किया जाता है और ऐसे में अगर किसी व्यक्ति का प्रदर्शन औसत से कमतर है तो वह अकेला पूरे समूह के प्रदर्शन को प्रभावित करता है और खुद को ही नहीं बल्कि अन्य सदस्यों को भी प्रभावित करता है। इस सामाजिक प्रेरणा के चलते उत्पादकता के परिणामों में बेहद प्रभावशाली परिवर्तन देखने को मिला है।

क्लाउडफैक्ट्री के सेल्स और मार्केटिंग के उपाध्यक्ष टॉम पुस्करिच का कहना है, ‘‘और यहीं से वास्तविक जवाबदेही का दौर प्रारंभ होता है। यह सिर्फ इतना कहने भर का नहीं हैं कि ‘देखों मैं किसी दूसरे देश में क्लाउड स्क्रीन पर प्रदर्शित होने वाली एक संख्या को तैयार करने के लिये कितना बेहतरीन काम कर रहा हूं लेकिन इसकाा मतलब उन लोगों से है जो मेरे समुदाय में रहते हैं और मैं सीधे उन्हें भी प्रभावित कर रहा हू।’

इन समूहों के प्रदर्शन की समीक्षा करने के अलावा क्लाउडफैक्ट्री ने उनके चरित्र का मूल्यांकन करना भी प्रारंभ किया और इसे समीक्षा की सूची में सर्वोच्च स्थान पर रखा। यह चरित्र मूल्यांकन उन लक्ष्यों पर आधारित होती है जो समूह के विभिन्न सदस्यों ने अपने लिये निर्धारित किये होते हैं। टाॅम कहते हैं, ‘‘कंपनी का प्रमुख उद्देश्य रोजगार सृजन के इन माध्यमों के द्वारा विकासशील देशों में ऐसे चुनिंदा व्यक्तियों को तैयार करना है जो अपने समाज में फैली गरीबी से निबटने में कामयाब रहें।’’

विस्तार के क्रम में क्लाउडफैक्ट्री ने हाल ही में कुछ धन प्राप्त किया है और ये तेजी से विकास की ओर अग्रसर हैं। टाॅम के अनुसार ये निवेशक इनकी कंपनी की लाभप्रदता के अलावा कंपनी के सामाजिक पहलू से भी काफी प्रभावित थे। टॉम बताते हैं, ‘‘यही हमारा लक्ष्य था कि हम प्रारंभ में सिर्फ थोड़े धन की व्यवस्था कर सकें जो हमें सिर्फ लाभ कमाने के काम में ही न लगा दे और फिर हम लाभ कमाने के चक्कर में अपने सामाजिक पक्ष को पीछे छोड़ दें। और उन्होंने हामी भर दी और यही हमारे निवेशकों के लिये भी आधार रेखा थी।’’

ये फिलहाल 150 कर्मचारियों के साथ काम कर रहे हैं और टाॅम का मानना है कि ये अपनी पूर्ण क्षमता पर संचालित हो रहे हैं। जब हमने टॉम से बात की वह क्लाउडफैक्ट्री के लिये सबसे सफल सप्ताह था जिसमें उन्होंने 7 दिनों के समय में 118,000 कार्यों को सफलतापूर्वक अंजाम दिया था। टाॅम हमें बताते हैं, ‘‘हमारे प्रतिस्पर्धियों में से एक मोबाइलवक्र्स ने हाल ही में घोषणा की है कि उन्होंने अपनी स्थापना से लेकर अबतक 1 मिलियन कार्यों को अंजाम दिया है। लेकिन फिलहाल हम इस स्तर तक खुद को लाने में सफल हो चुके हैं कि हम इसके दसवें भाग के जितने कार्यों को मात्र एक सप्ताह में निबटा रहे हैं।’’

टाॅम इस बात पर जोर देते हैं कि यह क्लाउडफैक्ट्री का लाभ का माॅडल ही है जिसकी वजह से वे इतना व्यापक प्रभाव छोड़ने में सफल रहे हैं। लाभ के लिये स्थिरता आवश्यक है और इसी स्थिरता की वजह से वे स्थायी प्रभाव छोड़ने में सफल होते हैं। हालांकि कंपनी का प्रमुख लक्ष्य सिर्फ अधिक लाभ कमाना ही नहीं प्रदर्शित होता है बिल्क ये ऐसे पेशेवरों की एक फौज तैयार करना चाहते हैं जहां कौशल और प्रतिभा सिर्फ आर्थिक हालातों के चलते बबार्दी की कगार पर पहुंच चुकी है।

टॉम कहते हैं, ‘‘हमारे अधिकतर क्लाउड कार्यकर्ता अपने तमाम जीवन सिर्फ क्लाउड कार्यकर्ता बनकर ही अपना जीवन नहीं गुजारेंगे बल्कि इनमें से कई आगे जाकर पत्रकार बनेंगे, इंजीनियर बनेंगे, राजनेता बनेंगे और भी न जाने क्या-क्या बनेंगे। लेकिन प्रारंभिक चरण से इन्हें तैयार करना सिर्फ इन्हें काम को बेहतरीन तरीके से करना सिखाना नहीं है बल्कि इन्हें लीडर बनाना है।’’

मूल -विलियम सलोन

अऩुुवाद- निशांत गोयल

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...