इस साल के ग्लोबल आंत्रेप्रेन्योर समिट का मुख्य विषय है वीमेन स्टार्टअप

0

ग्लोबल आंत्रप्रेन्योर समिट (जीईएस 2017) इस महीने के अंत में हैदराबाद में आयोजित होगा। सम्मेलन का मुख्य विषय महिला उद्यमिता है। 28 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तीन दिवसीय जीईएस 2017 का उद्घाटन करने वाले हैं। समिट की टैगलाइन है, 'महिलाएं पहले, सभी के लिए समृद्धि'।

जैसा कि इसके विषय से पता चलता है, शिखर सम्मेलन में वैश्विक विकास और समृद्धि को बढ़ावा देने में महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इस बार का समिट महिलाओं के चारों ओर घूमेगा।

महिलाओं के लिए अपना उद्यम शुरू करने में जो भी दिक्कतें आती हैं, उन्हें जिन जिन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, उन सब पर बात होगी। समाधान निकालने के लिए नीतिकार चर्चा करेंगे, लीडिंग आंत्रप्रेन्योर अपने अनुभव बांटेंगे।

ग्लोबल आंत्रप्रेन्योर समिट (जीईएस 2017) इस महीने के अंत में हैदराबाद में आयोजित होगा। सम्मेलन का मुख्य विषय महिला उद्यमिता है। 28 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तीन दिवसीय जीईएस 2017 का उद्घाटन करने वाले हैं। समिट की टैगलाइन है, 'महिलाएं पहले, सभी के लिए समृद्धि'। जैसा कि इसके विषय से पता चलता है, शिखर सम्मेलन में वैश्विक विकास और समृद्धि को बढ़ावा देने में महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इस बार का समिट महिलाओं के चारों ओर घूमेगा। महिलाओं के लिए अपना उद्यम शुरू करने में जो भी दिक्कतें आती हैं, उन्हें जिन जिन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, उन सब पर बात होगी। समाधान निकालने के लिए नीतिकार चर्चा करेंगे, लीडिंग आंत्रप्रेन्योर अपने अनुभव बांटेंगे।

टेक्नोलॉजी वेबसाइट टेक क्रंच ने एक वैश्विक अध्ययन का अनुमान लगाया है कि 2009 और 2017 के बीच 43,008 स्टार्टअप्स दुनिया भर में स्थापित हुए थे। इन कंपनियों में 6,791 यानि कि 15.8 फीसदी स्टार्टअप में कम से कम एक महिला संस्थापक हैं। इस कैलेंडर वर्ष में महिलाओं द्वारा स्थापित स्टार्टअप्स की संख्या में बढ़ोतरी वर्ष 2009 की 9% से बढ़कर 2013 में 17% हो गई है, जो आठ प्रतिशत की वार्षिक औसत वृद्धि दर्ज करता है। भारत में, इस परिदृश्य में कुछ निराशा होती है कि केवल 10-15 फीसदी भारतीय स्टार्टअप में एक महिला संस्थापक है। नई दिल्ली स्थित सीएल एडुटेक के कार्यकारी अध्यक्ष सत्य नारायणन आर के मुताबिक, भारत में महिलाओं के उद्यमियों का प्रतिनिधित्व अपेक्षाकृत कम है। यह कुछ विकसित अर्थव्यवस्थाओं की तुलना में कम है। मुझे नहीं लगता कि यह 10 से 15 प्रतिशत से अधिक है। लेकिन अब महिलाओं के उद्यमियों को इन दिनों ज्यादा ध्यान मिल रहा है। हम अगले पांच सालों में आश्चर्यजनक परिणाम देखेंगे।

वीमेन स्टार्टअप के लिए एक उदात्त उदाहरण है, टी-हब। टी-हब आंध्रप्रदेश सरकार द्वारा चलाया गया एक कार्यक्रम है जिसमें महिलाओं को उद्यमशील बनाने के लिए विशेष प्रेरित किया जाता है। वर्तमान में, टी-हब के इनक्यूबेटर में 120 स्टार्टअप हैं। यह कॉरपोरेट कार्यक्रमों के माध्यम से और 30 से अधिक शुरुआती सलाहकारों और अंतरराष्ट्रीय बैचों के माध्यम से प्रत्येक बैच में 10 और अधिक है। एक वर्ष में, ये प्रक्र्रम 200 स्टार्टअप को संभालते हैं और अप्रत्यक्ष रूप से एक और 300 को संरक्षकों की जिम्मेदारी निर्वहन करता है।

इन स्टार्टअप के लगभग 20 प्रतिशत महिलाओं द्वारा स्थापित किए गए हैं और अपने क्षेत्रों के फोकस अपशिष्ट प्रबंधन से सभी क्षेत्रों में आभासी वास्तविकता के लिए फैलते हैं। इसके अलावा, टी-हब ने कई महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए स्टार्टअप स्थापित करने के लिए बहुत सी पहल की है। लेकिन एक मौलिक मुद्दा है इसे शिक्षा प्रणाली से ही शुरू करना होगा ताकि इंजीनियरिंग कॉलेजों और नेतृत्व की भूमिका में भी ज्यादा महिलाएं हों।

वैश्विक शिखर सम्मेलन महिलाओं की स्थापना की शुरूआतओं की विकास प्रक्रिया को गति देगा। महिलाओं द्वारा स्थापित स्टार्टअप्स का कुल योग का 33 प्रतिशत होना चाहिए। इसके अलावा, सरकारों को महिलाओं के उद्यमियों को समर्थन देने वाली नीतिगत पहलों को सामने लाया जाना चाहिए। इस तरह, अधिक संख्या में महिलाएं उद्यमशीलता की तरफ आगे बढ़ेंगी। मल्टीटास्क महिलाओं को स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए मूल्यवान निविष्टियां मिलेंगी। भविष्य में बेहतर होगा कि महिलाओं के उद्यमियों को आने वाले वर्षों में बढ़ोतरी हो क्योंकि सरकार और वैश्विक निकायों द्वारा सभी क्षेत्रों में लैंगिक विविधता प्रयासों के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। 

ये भी पढ़ें: एयरबस फाउंडेशन ने भारत में लॉन्च किया रोबोटिक्स प्रोग्राम, युवा वैज्ञानिकों को मिलेगा विशेष फायदा

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी