दो युवा आंत्रेप्रेन्योर ने शुरू किया अपने तरह का पहला सोशल मीडिया न्यूज प्लैटफॉर्म 'सोशल समोसा'

1

सोशल समोसा भारत में सोशल मीडिया के ध्यानाकर्षण केन्द्रों में से एक है। ये मुम्बई की रहने वाली अंकिता गाबा का दूसरा एंटरप्रेन्योर है।सोशल समोसा सोच, आइडिया, केस स्टडी और सोशल मीडिया के डॉयलॉग्स का नया प्लेटफॉर्म होगा। इस पोर्टल का लक्ष्य इंडस्ट्री के हरेक आदमी को सोशल मीडिया पर हो रहे विकास के योग्य बनाना है।

अंकिता गाबा और आदित्य गुप्ता
अंकिता गाबा और आदित्य गुप्ता
उपभोक्ताओं को लगने लगा है कि वो सोशल मीडिया के जरिये बहुत कुछ कर सकते हैं। अब कई ब्रांडों को भी ये लगने लगा है। एक तरफ निजी साइट्स और ब्लाग पर बुहत अच्छे अच्छे काम दिखाये जा रहे हैं। तो दूसरी तरफ कई ब्रांड और बिजनेस मैन इसके इस्तेमाल से वाकिफ ही नहीं। इसकी वजह से वो अपना अच्छे काम का प्रचार प्रसार नहीं कर पा रहे।

नेशनल सर्वे के मुताबिक तकरीबन 30 मिलियन भारतीय सोशल नेटवर्किंग साइट्स से जुड़े हैं। आबादी से तुलना करने पर हमें ये बहुत छोटा आंकड़ा लगता है, लेकिन इसका विकास बहुत तेजी से हो रहा है। सोशल मीडिया हमारे स्वभाविक बातचीत का एक विस्तार है। हम हमेशा अपने लोगों से बातचीत करना चाहते हैं। हमें स्कूल से लेकर घर तक तक और यहां तक की सामाजिक भूमिकाओं के बीच भी सोशल मीडिया को देखना अच्छा लगता हैं। 

सोशल समोसा भारत में सोशल मीडिया के ध्यानाकर्षण केन्द्रों में से एक है। ये मुम्बई की रहने वाली अंकिता गाबा का दूसरा एंटरप्रेन्योर है।सोशल समोसा सोच, आइडिया, केस स्टडी और सोशल मीडिया के डॉयलॉग्स का नया प्लेटफॉर्म है। इस पोर्टल का लक्ष्य इंडस्ट्री के हरेक आदमी को विकास योग्य बनाना है। लेकिन अब सवाल है कि उन्हें आखिर ये आइडिया आया कैसे। दरअसल भारत में सोशल मीडिया इडस्ट्री दिन दोगुनी, रात चौगुनी तरक्की कर रहा है। उपभोक्ताओं को लगने लगा है कि वो सोशल मीडिया के जरिये बहुत कुछ कर सकते हैं। अब कई ब्रांडों को भी ये लगने लगा है। एक तरफ निजी साइट्स और ब्लाग पर बुहत अच्छे अच्छे काम दिखाये जा रहे हैं। तो दूसरी तरफ कई ब्रांड और बिजनेस मैन इसके इस्तेमाल से वाकिफ ही नहीं। इसकी वजह से वो अपना अच्छे काम का प्रचार प्रसार नहीं कर पा रहे।

सोशल मीडिया की ताकत-

सोशल मीडिया का इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है। और अब तो कई लोग इसमें अपना करियर तलाशने लगे हैं। और अब तो उद्यमी भी खुद के बिजनेस के प्रचार के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेना चाहते है। सोशल मीडिया हमारे स्वभाविक बातचीत का एक विस्तार है। हम हमेशा अपने लोगों से बातचीत करना चाहते हैं। हमें स्कूल से लेकर घर तक तक और यहां तक की सामाजिक भूमिकाओं के बीच भी सोशल मीडिया को देखना अच्छा लगता हैं। हम सबको ऑनलाइन कर अपने संपर्कों को बढ़ाते हैं। जब लोग सोशल मीडिया को को अपनाने लगेंगे तो उन्हें किसी ब्रांड के भरोसे नहीं रहना पड़ेगा। नेशनल सर्वे के मुताबिक तकरीबन 30 मिलियन भारतीय सोशल नेटवर्किंग साइट्स से जुड़े हैं। आबादी से तुलना करने पर हमें ये बहुत छोटा आंकड़ा लगता है, लेकिन इसका विकास बहुत तेजी से हो रहा है।

लेकिन उनमें से कई उद्यमी ऐसे हैं जिन्हें इनका इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं आता। उन्हें ये ही पता नहीं होता कि शुरूआत कहां से करें। और खुद को अपडेट कैसे रखे। हम सब जानते हैं फिर भी इसे नकारते हैं। इसके संस्थापक अंकिता गाबा और आदित्य गुप्ता सोशल मीडिया इंडस्ट्री से ही हैं। और अलग-अलग सोशल मीडिया के प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। आदित्य गुप्ता ‘i-generio’ नाम की सोशल मीडिया, वेब, मोबाइल और ब्रांडिग एजेंसी चलाते हैं। और अंकिता मुम्बई से काम करती हैं। अंकिता के मुताबिक, हमारा पहला इसके उपयोग को समझाना है। हम चाहते है कि ये एक ऐसा प्लेटफॉर्म बने जहां हर चीज के लोग जाये। हम इसके जरिये लोगों को प्रोत्साहित करना चाहते हैं। जिससे वो सोशल मीडिया के जरिये खुद के लिए व्यापार और रोजगार जैसी संभावनाएं उत्पन्न कर सकें। इसके साथ साथ हम चाहते हैं कि जल्द ही सोशल मीडिया जॉब्स, एजेंसियां और इससे जुड़े इवेंट्स शुरू हो सके। जिससे सोशल मीडिया इंडस्ट्री ज्यादा संगठित हो सके।

बदलते वक्त की नब्ज पकड़ें-

बिजनेस में जरूरी होता है विषय वस्तु। कनटेन्ट की प्लानिंग कैसे करें, ये एक बड़ा सवाल होता है। आदित्य के मुताबिक, हमने इसके लिए जानकार लेखकों की मदद ली। हमने उनसे कई विषय साझा किये। जिनपर पर रिसर्च और पूरी निष्ठा के साथ लिख सकें। हमने ऐसे लोगों को भी चुना जो इस क्षेत्र में खुद ब खुद मदद करना चाहते थे। इसके साथ हम कई एजेंसियों और ब्रांड्स में भी गये और वहां उनसे हासिल अनुभवों पर केस स्टडी की। आमदनी के लिए हम विज्ञापनों पर ध्यान दे रहे हैं। जल्द ही हम रोजगार और कार्यक्रम की सूची भी शुरू करने वाले हैं। हमने एक साथ मिलकर ये दूसरा कार्यक्रम शुरू किया है। इससे पहले हमने सुपरकोका के नाम से सोशल मीडिया एजेंसी शुरू की। इसके लिए सोशल मीडिया, मार्केटिंग, और इसको शुरू करने की ट्रेनिंग ली। भारत में बढ़ते स्मार्ट फोन के उपयोग को देखते हुए हमने ये तय किया है कि हम जल्द ही मोबाइल पर जायेंगे। इसके लिए एक टीम सोलोमो (SoLoMo) यानि सोशल, लोकल और मोबाइल की सोच पर काम कर रही है। और भी कई ब्रांड्स सोशल मीडिया के जरिये उपभोक्ताओं को आकर्षित करने में जुटी हैं।

ये भी पढ़ें: इंजीनियर ने शुरू किया "दूसरे की गर्लफ्रेंड को लव लेटर" लिखने का स्टार्टअप

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...