गरीबी से संघर्ष करते-करते ओपरा बनीं अरबपति अमेरिकी मीडियापर्सन

विश्व-ओपरा की सबसे प्रभावशाली और अमीर महिलाओं में से एक ओपरा विनफ़्रे...

0

हालात चाहे जितने सख्त हों, जिंदगी में कभी हार न मानने की प्रेरणा देती हैं ओपरा विनफ़्रे। आज वह अमेरिका में 'मीडिया की रानी' कही जाती हैं। उनके जीवन की विपत्तियों की शुरुआत तो जैसे उनके जन्म से पहले ही हो चुकी थी। वह कुंआरी मां की कोख से जन्मीं। उनका आज (29 जनवरी 1954) 64वां जन्मदिन है। वह नौ साल की थीं, दुराचार हुआ। चौदह साल में प्रेग्नेंट हो गईं। शिशु ने जनमने से पहले ही दम तोड़ लिया। तब भी वक्त की कठिन मार पर पार पाते हुए आज वह विश्व-ओपरा की सबसे प्रभावशाली और अमीर महिलाओं में से एक हैं। उन्होंने अमेरिका के इतिहास में सबसे ज्यादा रेटिंग वाला शो 'द ओपरा विनफ्रे शो' से दुनिया में अपनी नई पहचान बनाई है। एक दौर में वह विश्व की पहली और अकेली अश्वेत अरबपति रही हैं।

ओपरा विनफ्रे (फाइल फोटो)
ओपरा विनफ्रे (फाइल फोटो)
'द ओपरा विनफ्रे शो' की मेज़बान, अभिनेत्री, निर्माता और लिपिकार ओपरा विनफ़्रे को उनके स्वयं के नाम के कई पुरस्कारों के विजेता शो के कारण जाना जाता है, जो 1986 से 2011 तक प्रसारित किया गया। 'द ओपरा विनफ्रे शो' इतिहास का सबसे अधिक रेटिंग वाला धारावाहिक बना।

वर्ष 2013 में 'फोर्ब्स' की ताकतवर हस्तियों की सूची में पहले स्थान पर रहीं ओपरा विनफ्रे अपना टीवी नेटवर्क चलाती हैं। जिंदगी की कंटीली राहें बहुत पीछे छोड़ चुकीं ओपरा कहती हैं - ''ये मायने नहीं रखता की आप दुनिया में कैसे आये, ये मायने रखता है की आप यहाँ हैं। मैं खुद को एक पिछड़ी बस्ती की गरीब वंचित लड़की नहीं समझती, जिसने कुछ बड़ा हासिल किया। मैं खुद को एक ऐसा व्यक्ति समझती हूँ, जो छोटी उम्र से ही ये जानती थी कि मैं खुद के लिए जिम्मेदार हूं और मुझे अच्छा करना है। ऐसे लोगों से ही घिरे रहिए, जो आपको ऊपर उठाएं। मुझे लगता है कि तैयारी और अवसर का मिलन ही भाग्य है। अभी भी मेरे पैर ज़मीन पर हैं, बस मैं अब अच्छे जूते पहनती हूँ। मैं ब्लैक हूँ, इसे मैं बोझ नहीं समझती और मैं ऐसा नहीं सोचती कि ये मेरे ऊपर एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। ये जो मैं हूँ, उसका हिस्सा है। ये मुझे परिभाषित नहीं करता।

वे कहती हैं कि असल इमानदारी, ये जानते हुए सही काम करने में है कि कोई और ये नहीं जान पाए कि आपने ये किया है या नहीं। जैसे-जैसे आपको स्पष्ट हो जाएगा की आप सचमुच कौन हैं, आप और भी अच्छे से तय कर पायेंगे की आपके लिए सबसे अच्छा क्या है- पहली बार में ही। आपके पास जो कुछ भी है, उसके लिए शुक्रगुज़ार रहिये; आपके पास और भी अधिक होगा। अगर आप इस बात पर ध्यान केन्द्रित करेंगे कि आपके पास क्या नहीं है तो आपके पास कभी भी पर्याप्त मात्र में चीजें नहीं होंगी। अगर आपको अपने जीवन के लक्ष्य प्राप्त करने हैं तो आपको अपनी आत्मा से शुरुआत करनी होगी। बहुत सारे लोग आपके साथ शानदार गाड़ियों में घूमना चाहते हैं, पर आप चाहते हैं कि कोई ऐसा हो जो गाड़ी खराब हो जाने पर आपके साथ बस में जाने को तैयार रहे। अब तक की सबसे बड़ी खोज है कि इंसान सिर्फ अपना नजरिया बदल के अपना भविष्य बदल सकता है।

ओपरा के मुताबिक आप जितना अधिक अपने जीवन की प्रशंशा करेंगे और उसका जश्न मनाएंगे, उतना ही आपके जीवन में जश्न मनाने के अवसर होंगे। मैं इतना जानती हूँ कि आप वो करें जो आप चाहते हैं, और वो काम आपको पूर्ण करे तो बाकी चीजें अपने आप आ जाएँगी। भौतिक सफलता ये करती है कि ये आपको ऐसी क्षमता देती है, आप अपना ध्यान उन चीजों पर केन्द्रित कर पाएं, जो वास्तव में मायने रखती हैं तब आप अपनी ही नहीं, दूसरों की ज़िन्दगी में भी अंतर ला पाएंगे। आपको पता होता है कि आप सफलता के मार्ग पर चल रहे हैं, जब बिना पैसे मिले भी आप अपना काम करें। कोई एक ऐसी चीज करिए, जो आपको लगता है कि आप नहीं कर सकते हैं। उसमे असफल होइए। फिर से प्रयास करिए। केवल वही लोग नहीं गिरते हैं, जो कभी चुनौतीपूर्ण काम नहीं करते हैं। ये आपका पल है। इसे अपनाइए।

एक अमरीकी मीडिया शो

'द ओपरा विनफ्रे शो' की मेज़बान, अभिनेत्री, निर्माता और लिपिकार ओपरा विनफ़्रे को उनके स्वयं के नाम के कई पुरस्कारों के विजेता शो के कारण जाना जाता है, जो 1986 से 2011 तक प्रसारित किया गया। 'द ओपरा विनफ्रे शो' इतिहास का सबसे अधिक रेटिंग वाला धारावाहिक बना। ओपरा को बीसवीं सदी की अमेरिका की सबसे रईस लिपिकार होने का सम्मान प्राप्त है। एक दौर में वह विश्व की अकेली अश्वेत अरबपति रही हैं। ओपरा विनफ़्रे का जिंदगीनामा बड़ा ही दर्दनाक है। उनका जन्म मिसिसिप्पी (अमेरिका) में एक अश्वेत गरीब गाँव में कुंवारी माँ वेरनिता ली की कोख से हुआ था। उनका बचपन मिल्वौकी में बीता।

उनका बचपन नानी के साथ बीता, जो की बहुत ही गरीब थीं! ओपराह विनफ्रे को अकसर आलू के बोरों से बनी फ्राक पहननी पड़ती, जिससे बच्चे उनका मजाक उड़ाया करते थे। उनकी नानी ने ही उन्हें पढ़ना सिखाया और चर्च ले गयीं। बहुत कम उम्र में ही वह बाइबल के शब्द कंठस्थ करने लगी थीं। एक दिन ऐसा भी आया, जब चर्च में उन्हें नन्ही उपदेशक कहा जाने लगा। उनके जीवन की पहली पाठशाला उनका घर रहा, जहां वह खिलौना गुड़ियों के इंटरव्यू लेती रहती थीं। नानी उन्हें सार्वजनिक स्थलों पर सकारात्मक बोलने के लिए उन्हें उकसाती रहती थीं। जब वह छह साल की थी, माँ के पास लौटीं तो उन्हें नानी जैसी शिक्षा और सुख नहीं मिला। घर खर्च चलाने के लिए वह पड़ोसियों के यहां झाड़ू-पोंछा करने लगीं।

जब वह नौ वर्ष की थीं, उनके साथ दुराचार किया गया। जब चौदह साल की रहीं, प्रेग्नेंट हो गईं। शिशु ने जन्म लेने से पहले ही दम तोड़ दिया। उसके बाद उन्हें एक हज्जाम के ठिकाने पर लावारिस सा छोड़ दिया गया। आज की अमरीकी मीडिया प्रोपराइटर, टॉक शो हॉस्ट, एक्ट्रेस और प्रोड्यूसर ओपरा विनफ्रे उन दिनो कैसी-कैसी दुर्गति की शिकार हुईं, वह सब लिखा, बताया जाए तो कई ग्रंथ तैयार हो जाएंगे। अपने कठिन वक्त से लड़ते हुए उन्नीस साल की उम्र में वह हाई स्कूल की पढ़ाई के दौरान ही रेडियो स्टेशन पर काम करने लगीं। वह प्रोग्राम घरेलू समाचारों का होता था, जिसका उन्हें प्रमुख सहयोगी बना लिया गया। उनकी प्रस्तुति और मेहनत का रेडियो स्टेशन प्रबंधन पर ऐसा असर पड़ा कि उन्हें एक प्रसारण का अधिकार दे दिया गया।

ओपरा विनफ्रे
ओपरा विनफ्रे

इसके बाद तो ओपरा ने कभी जीवन में पीछे मुड़कर नहीं देखा, वह अनवरत सफलता की उड़ानें भरती चली गईं। उन्होंने स्वयं की निर्माता कंपनी खोल ली। अपने प्रबंधन में रेडियो प्रोग्राम प्रसारित करने लगीं। और आज ओपरा दुनिया की वह सबसे प्रभावशाली और अमीर महिलाओं में से एक हैं। अमेरिका के इतिहास में सबसे ज्यादा रेटिंग वाला शो 'द ओपरा विनफ्रे शो' के लिए उन्हें जाना जाता है। ये शो 1986 से 2011 तक प्रसारित होता रहा था। वह इन दिनो हार्पो प्रॉडक्शन और ओपरा विनफ्रे नेटवर्क की चेयरवूमेन और सीईओ हैं।

ओपरा विनफ्रे को आज अमेरिका ही नहीं, पूरी दुनिया में फेमस टॉक शो होस्ट, मोटिवेशनल स्पीकर, प्रोडूसर, एक्ट्रेस, और परोपकारी महिला के रूप में जाना जाता है। उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा अमेरिका के प्रतिष्ठित 'प्रेजिडेंट मैडल आफ फ्रीडम' से समादृत कर चुके हैं। ओपरा के जीवन का वह पूरा दौर ही जैसे विपत्तियों की महागाथा जैसा है। नानी के यहां से लौटकर जब वह अपनी मां के यहां विपन्नता में दिन काट रही थीं, लगातार उन्हें अनमना पाकर मां ने उन्हें उनके नेशविले टेनीसी में रह रहे बारबर पिता वेरनोन के पास पहुंचा दिया। वेरनोन बड़े शख्त मिजाज थे। किसी भी तरह की लापरवाही न बरतते हुए ओपरा को पढ़ाई की ओर प्रेरित किया।

ओपरा ने भी जी लगाकर खुद को किताबों में झोक दिया। पहले ही पायदान पर सफलता मिली। वह मोस्ट पोपुलर गर्ल (छात्रा) चुन ली गईं। इसके बाद वह स्कूली वाद विवाद प्रतियोगिताओ में अपनी खूबियों का परचम फहराने लगीं। इसी योग्यता ने उनकी उच्च शिक्षा का मार्ग प्रशस्त किया। उन्हे कम्युनिकेशन की पढ़ाई के लिए स्कालरशिप मिलने लगी। जब वह सत्रह साल की रही होंगी, उनको मिस ब्लेक टेनीसी का ख़िताब मिला। इसके बाद तो 1983 में जब वह शिकागो पहुंचीं, मॉर्निग टॉक शो 'ए एम शिकागो' की हॉस्टिंग ने पूरी दुनिया का आकाश उनके कदमों में डाल दिया।

यह भी पढ़ें: सब्जी बेचकर गरीबों के लिए अस्पताल खड़ा करने वाली सुभाषिणी मिस्त्री

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

पत्रकार/ लेखक/ साहित्यकार/ कवि/ विचारक/ स्वतंत्र पत्रकार हैं। हिन्दी पत्रकारिता में 35 सालों से सक्रीय हैं। हिन्दी के लीडिंग न्यूज़ पेपर 'अमर उजाला', 'दैनिक जागरण' और 'आज' में 35 वर्षों तक कार्यरत रहे हैं। अब तक हिन्दी की दस किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें 6 मीडिया पर और 4 कविता संग्रह हैं।

Related Stories

Stories by जय प्रकाश जय