नौकरी छोड़कर खुद का काम करने की चाहत रखते हैं अधिकतर भारतीय: स्टडी

1

स्टडी के अनुसार भारतीय कामगारों में उद्यमी बनने की इच्छा सबसे अधिक है और आधे से अधिक यानी 56 प्रतिशत लोग अपनी मौजूदा नौकरी छोड़कर खुद का काम शुरू करने की इच्छा रखते हैं।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
 83 फीसदी भारतीय कामगार उद्यमी बनने की इच्छा रखते हैं जबकि वैश्विक स्तर पर यह औसत 53 प्रतिशत है।

सर्वे में शामिल लगभग 86 प्रतिशत ने संकेत दिया है कि भारत में स्टार्टअप शुरू करने के लिए अनुकूल माहौल है। 

आजकल युवाओं में खुद का बिजनेस स्टार्ट करने की इच्छा सबसे अधिक प्रबल होती है। भारत में खुल रहे नित नए स्टार्ट अप इसका सबसे अच्छा उदाहरण हैं। एक स्टडी के अनुसार भारतीय कामगारों में उद्यमी बनने की इच्छा सबसे अधिक है और आधे से अधिक यानी 56 प्रतिशत लोग अपनी मौजूदा नौकरी छोड़कर खुद का काम शुरू करने की इच्छा रखते हैं। रेंडस्टेड वर्कमोनिटर के सर्वे में यह निष्कर्ष निकाला गया है।

इसके अनुसार 83 फीसदी भारतीय कामगार उद्यमी बनने की इच्छा रखते हैं जबकि वैश्विक स्तर पर यह औसत 53 प्रतिशत है। रेंडस्टेड इंडिया के प्रबंध निदेशक और सीईओ पॉल डुपिस ने कहा, 'स्थिर कारोबारी माहौल, एफडीआई सीमा बढ़ाने संबंधी बाजारोन्मुखी सुधारों, जीएसटी के कार्यान्वयन और मेक इन इंडिया व डिजिटल इंडिया जैसी पहलों से नई आकांक्षा और महत्वाकांक्षा वाला भारतीय वर्ग पल्वित हो रहा है।'

सर्वेक्षण के अनुसार 45-54 वर्ष आयुवर्ग में 37 प्रतिशत लोग ही अपना खुद का काम शुरू करना चाहते हैं जबकि 25-34 वर्ष आयु वर्ग में 72 प्रतिशत और 35-44 प्रतिशत आयुवर्ग में 61 प्रतिशत लोग अपना काम शुरू करना चाहते हैं। सर्वे में शामिल लगभग 86 प्रतिशत ने संकेत दिया है कि भारत में स्टार्टअप शुरू करने के लिए अनुकूल माहौल है। वहीं 84 प्रतिशत का कहना है कि भारत सरकार देश में नए स्टार्टअप का समर्थन कर रही है।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Manshes Kumar is the Copy Editor and Reporter at the YourStory. He has previously worked for the Navbharat Times. He can be reached at manshes@yourstory.com and on Twitter @ManshesKumar.

Stories by मन्शेष कुमार