जनता तक पहुंचने के लिए राजनीतिक दलों में पर्सनलाइज्ड कम्यूनिकेशन की होड़

...ताकि सियासत चमकने के साथ बिजनेस भी चमके

0

पिछले दो तीन साल में भारतीय राजनीति में टेक्नोलॉजी काफी महत्वपूर्ण हो गई है। विभिन्न पार्टियों के राजनेता युवा और टेक्नो-सेवी वोटर्स को लुभाने के लिए IVR (क्लाउड टेलीफोनी), सोशल नेटवर्क और ईमेल मार्केटिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी की ऐतिहासिक सफलता को सिर्फ ‘आप’ कार्यकर्ता और सपोर्टर ही सेलिब्रेट नहीं कर रहे हैं, कुछ स्टार्टअप भी इसे भुना रही हैं। दिल्ली बेस्ड MyOperator का दावा है कि उसने आम आदमी पार्टी के लिए 5 लाख से ज्यादा टोल-फ्री कॉल किया। एक दूसरे स्टार्टअप InviteReferral ने सोशल नेटवर्क पर आम आदमी पार्टी के लिए सफलतापूर्वक रेफरल प्रोग्राम लॉन्च किया।

इन दोनों स्टार्टअप के अलावा हैदराबाद बेस्ड एक पोलिटिकल प्रॉसेज आउटसोर्सिंग कंपनी ‘सिपर ग्लोबल इन्फॉर्मेटिक्स’ ने छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में नेताओं को अपने टारगेट ग्रुप से कनेक्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कंपनी ने आईवीआर पर पर्सनलाइज्ड कम्यूनिकेशन और आउटबाउंड कॉलिंग प्लेटफॉर्म के जरिये ये करिश्मा किया।

कैसे आया आइडिया ?

बहुत सारे भारतीयों को राजनीति पर चर्चा करने में खास रूचि होती है। अभिजीत शेष और उनके कज़िन नितिन टंकसाले को भी देश में राजनीतिक घटनाक्रमों पर डिबेट करना काफी पसंद था। अभिजीत बताते हैं- “हम चर्चा करते थे कि कैसे छत्तीसगढ़ में हमारे जन्मस्थान के एक खास नेता अपने कामों की बदौलत लोगों में काफी लोकप्रिय हैं।” कुछ ऐसे भी नेता थे जिन्होंने अच्छा काम किया था मगर वो अपनी उपलब्धियों को लोगों तक सही ढंग से पहुंचा नहीं पा रहे थे। अभिजीत आगे कहते हैं- “तब हमने महसूस किया कि टेक्नोलॉजी इस गैप को भर सकती है और हमने इस गैप को भरने के लिए अपने वेंचर ‘सिपर ग्लोबल इंफॉर्मेटिक्स’ को लॉन्च किया।”

सिपर की टीम और यूएसपी

वेंचर लॉन्च करने से पहले अभिजीत मशहूर जर्मन शिपिंग कंपनी हैपग लॉयड और ओमान के अल दस्तूर ग्रुप में काम कर चुके थे। वहीं नितिन भी 15 साल तक मार्केटिंग और रिलायंस ब्रॉडकास्ट, शिकॉगो बेस्ड क्रिएटिव कंपनी लिओ बर्नेट्ट जैसी कंपनियों में ब्रांड एक्टिवेशन का काम कर चुके थे।

दोनों का दावा है कि सिपर ग्लोबल इंफॉर्मेटिक्स पहली ऐसी भारतीय कंपनी है जो राजनीतिक दलों या नेताओं और उनके टारगेट ग्रुप के बीच आइवीआर पर पर्सनलाइज्ड कम्यूनिकेशन और आउटबाउंड कॉलिंग प्लेटफॉर्म मुहैया कराती है। ये पर्सनलाइज्ड आउटबाउंड कॉलिंग फीचर के साथ-साथ कस्टमाइज्ड रिस्पॉन्स सिस्टम और डाटाबेस मैनेजमेंट की सेवाएं देती है।

आकर्षण और कॉम्पटिशन

अब तक इस स्टार्टअप ने पांच राजनीतिक दलों (छत्तीसगढ़ में तीन, मध्य प्रदेश और राजस्थान में एक-एक) के लिए 2013 के विधानसभा चुनावों में कस्टमाइज्ड कम्यूनिकेशन कैंपेन का संचालन कर चुकी है।

अभिजीत खुलासा करते हैं- “जहां तक प्राइसिंग की बात है तो सिपर नेताओं को उनकी जरूरत और उनके चुनाव क्षेत्र के ओवरऑल प्रोफाइल को ध्यान में रखकर कस्टमाइज्ड कैंपेन चलाती है। चुनाव क्षेत्र का आकार प्राइसिंग को निर्धारित करने वाले महत्वपूर्ण कारकों में से एक है।”

अभिजीत का मानना है कि सिपर की MyOperator, Knowlarity समेत क्लाउड टेलीफोनी मार्केट के किसी भी प्लेयर से कोई कॉम्पटिशन नहीं है क्योंकि सिपर बेहतरीन ऑपरेशनल स्पेस बनाने पर फोकस करती है। वो आगे जोड़ते हैं- “हम प्रत्येक कस्टमर को उसके चुनाव क्षेत्र की प्रोफाइल और वास्तविक जरूरतों पर आधारित कस्टमाइज्ड सोल्यूशन प्रदान करते हैं।”

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...