बेंगलुरु में बैठकर बहरीन में स्टार्टअप शुरू कर दिया इस शख़्स ने

0

स्टार्टअप शुरू करने के लिए दिमाग में एक धांसू आइडिया होना चाहिए, मार्केट की सही समझ होनी चाहिए और मन में अपने काम के लिए दृढ़ विश्वास होना चाहिए। फिर कुछ भी असंभव नहीं रह जाता है। ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है अमजद पुलियाली ने। अमजद बहरीन में ऑनलाइन किराने की डिलीवरी कराने वाले प्लैटफॉर्म 'गेटबाकला' के सहसंस्थापक हैं।

साभार: आईएनसी24
साभार: आईएनसी24
अमजद पुलियाली के बाहर आधारित एक डिजिटल पृष्ठभूमि से आते हैं। उनके इस स्टार्टअप को बहरीन डेवलपमेंट बैंक के 12 महीने के एक्सीलेरेटर प्रोग्राम सीड फ्यूल के लिए भी चुना गया है, जो 66 हजार डॉलर का धन प्रदान करता है।

अमजद के मुताबिक, मध्य पूर्व के सबसे बड़े रुझानों में से एक मोबाइल था। जो सभी बाजारों में ऊपर उठा रहा था। जैसा कि हमने दुनिया भर के रुझानों को देखा और उनसे सऊदी अरब और बहरीन जैसे बाजारों में स्थानीय अवसरों की तुलना की, उन चीजों में से एक ने हमारे दिमाग को छुआ, वो था, लोग इन बाजारों में किराने की डिलीवरी सेवाएं तलाश रहे हैं। दुनिया में कहीं और आपको किराने की डिलीवरी करनी है तो गुंजाइश काफी बढ़ जाती है।

स्टार्टअप शुरू करने के लिए दिमाग में एक धांसू आइडिया होना चाहिए, मार्केट की सही समझ होनी चाहिए और मन में अपने काम के लिए दृढ़ विश्वास होना चाहिए। फिर कुछ भी असंभव नहीं रह जाता है। ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है अमजद पुलियाली ने। अमजद बहरीन में ऑनलाइन किराने की डिलीवरी कराने वाले प्लैटफॉर्म 'गेटबाकला' के सहसंस्थापक हैं। अमजद पुलियाली के बाहर आधारित एक डिजिटल पृष्ठभूमि से आते हैं। उनके इस स्टार्टअप को बहरीन डेवलपमेंट बैंक के 12 महीने के एक्सीलेरेटर प्रोग्राम सीड फ्यूल के लिए भी चुना गया है, जो 66 हजार डॉलर का धन प्रदान करता है।

अमजद के मुताबिक, मध्य पूर्व के सबसे बड़े रुझानों में से एक मोबाइल था। जो सभी बाजारों में ऊपर उठा रहा था। जैसा कि हमने दुनिया भर के रुझानों को देखा और उनसे सऊदी अरब और बहरीन जैसे बाजारों में स्थानीय अवसरों की तुलना की, उन चीजों में से एक ने हमारे दिमाग को छुआ, वो था, लोग इन बाजारों में किराने की डिलीवरी सेवाएं तलाश रहे हैं। दुनिया में कहीं और आपको किराने की डिलीवरी करनी है तो गुंजाइश काफी बढ़ जाती है। इस क्षेत्र में हमने यहां एक मौका देखा। ई-कॉमर्स में पहले से ही बड़े खिलाड़ी हैं, जैसे सौक डॉट कॉम (इस साल अमेज़ॅन द्वारा अधिग्रहीत), जो इस क्षेत्र में मौजूद हैं, लेकिन हम एक महत्वपूर्ण तत्व के रूप में हाइपरलोकल और मोबाइल पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।

साभार: लिंक्डइन
साभार: लिंक्डइन

यूएई में अपने पेशेवर करियर का निर्माण करने के बाद, अमजद ने डिजिटल प्लैटफॉर्म के विकास, प्रदर्शन, बड़े आंकड़ों और निजीकरण के क्षेत्र में अंतर्दृष्टि प्राप्त कर लिया। शुरुआत में वो वहां पर मुख्य रूप से बड़ी ई कॉमर्स कंपनियों जैसे एतिहाद एयरवेज, सौक डॉट कॉम, करीम, नम्शी इत्यादि को सलाह देते थे। अमजद को भी कई भारतीय डेटा-संचालित कंपनियों जैसे वाइजरी के साथ काम करने का मौका मिला था। वास्तव में, वाइजरी के साथ काम करना उनके लिए एक बड़ा सीखने का अनुभव था। कंपनी में अपने कार्यकाल के दौरान उन्हें कंपनी के व्यापार को मध्य पूर्व और अफ्रीका में विस्तार करने का मौका मिला। और इस प्रकार जब अमजद मध्य पूर्व में अपना खुद का स्टार्टअप स्थापित करने की तैयारी में थे, तो वह था डिजिटल माध्यम। डेटा और मोबाइल के विस्तारित आंकड़ों ने उन्हें चकित कर दिया था।

इसलिए अमजद ने अपनी नौकरी छोड़ दी और हाइपरलोकल स्पेस का परीक्षण करने के लिए बाजार के लिए स्काउट किया। हालांकि अमजद 10 वर्षों तक दुबई में रहे हैं, फिर भी स्टार्टअप की स्थापना देश में एक महंगी चीज थी। जब अमजद धर्मी मग्दानी से मिले तब बात कुछ बनी। धर्मी बहरीन के आर्थिक विकास बोर्ड (ईडीबी) के इंडिया कंट्री मैनेजर थे। अमजद बताते हैं, जाहिर है मुझे लगता था कि अगर मिडिल ईस्ट में कारोबार करना है तो मैं बहरीन क्यों जाऊंगा जो मध्य पूर्व में सबसे छोटा बाजार है। हालांकि, बहरीन में व्यापार के कुछ निश्चित फायदे थे। सऊदी अरब बहरीन से सिर्फ 30 मिनट की दूरी पर है। इसलिए सऊदी अरब में लॉन्च करने से पहले बहरीन में उत्पाद का परीक्षण करना सही रहता है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि बहरीन के ग्राहकों का व्यवहार अरब ग्राहकों के समान है। लगभग 95% के एक इंटरनेट पैठ के साथ और 120% की एक मोबाइल पहुंच के साथ, यह जगह शुरुआत करने के लिए सही साबित हो सकती है।

साभार: ट्विटर
साभार: ट्विटर

अमजद को केवल दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के लिए एक बार बहरीन का दौरा करना पड़ा। सह-संस्थापक अबुबकर शिनान के साथ मिलकर वो गेटबाकला को निरंतर ऊपर उठा रहे हैं। ईडीबी और बहरीन की सरकार एक मजबूत स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण कर रहे हैं, अमजद का ये स्टार्टअप इसका बेहतरीन उदाहरण है। बहरीन में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के समर्थन के लिए ईडीबी द्वारा किए गए उपायों के बारे में बोलते हुए, अमजद ने बताया कि ईडीबी ने एक आभासी जगह शुरू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिससे कानूनी रूप से कागज तैयार हो सकें और टीम के लिए वीजा की व्यवस्था की। मैं तो बिना किसी परेशानी के बाजार में परीक्षण करने के लिए गेटबाकला का इस्तेमाल कर सका।

ये भी पढ़ें: देवरिया, छपरा के बच्चों को डिजिटली पढ़ा रहा है दिल्ली का ये स्टार्टअप

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी