भारत में निवेश की संभावनाएँ असीम : जेटली

0

वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि भारत में निवेश के लिए व्यापक संभावनायें हैं और इसकी कोई सीमा नहीं है। भारत की आर्थिक वृद्धि टिकाउ हैं क्योंकि उसे अभी काफी दूरी तय करनी है।

पांच दिन की यात्रा पर चीन आये जेटली ने सरकारी चैनल सीसीटीवी को दिये एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘यह (वृद्धि) टिकाउ है। इसकी वजह यह है कि भारत को आर्थिक वृद्धि के संदर्भ में अभी लंबा रास्ता तय करना है।’’ उन्होंने कहा कि भारत में इस लिहाज से बुनियादी ढांचा, शहरीकरण, आवास, बिजली, जल तथा सामाजिक क्षेत्र में निवेश की काफी संभावनायें हैं।

जेटली ने कहा, ‘‘हमारे लिए आज निवेश की कोई सीमा नहीं है। इस तरह का निवेश आज हमें चाहिये। काफी आर्थिक गतिविधियाँ होनी हैं। वर्तमान में सार्वजनिक वित्त निवेश के मामले में नेतृत्व कर रहा है। मुझे विश्वास है कि कुछ समय में जब अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी, निजी क्षेत्र भी इसे गति देगा।’’

जेटली ने कहा, ‘‘दूसरा, मानसून भी सामान्य से कम रहने के बावजूद हमारी दो साल से वृद्धि अच्छी रही है। भारत की आर्थिक वृद्धि में मानसून महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस साल मानसून बेहतर रहने की उम्मीद है।’’ जेटली ने कहा कि अगर देश में मानसून अच्छा है तो इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मदद मिलेगी, लोगों की क्रयशक्ति बढ़ेगी और कुल मिलाकर अर्थव्यवस्था को फायदा होगा।

वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘पिछले साल हमारी वृद्धि 7.6 प्रतिशत रही। हम निश्चित रूप से इसे बनाये रखेंगे और अच्छे मानसून के साथ उम्मीद है कि यह और बेहतर होगी।’’ पिछले साल भारत की आर्थिक वृद्धि चीन की 6.9 प्रतिशत से अधिक रही।  वैश्विक बुनियादी ढाँचा तथा आर्थिक वृद्धि के मुद्दे पर जेटली ने वैश्विक आर्थिक नरमी पर अपनी चिंता रखी। 

जेटली ने कहा, ‘‘भारत जैसे बड़ी आबादी वाली अर्थव्यवस्था में रोज़गार वृद्धि अत्यंत महत्वपूर्ण है। जेटली ने आज चीन समर्थित एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) के निदेशक मंडल की बैठक में भी हिस्सा लिया।  (पीटीआई)